अगरतला में घूमने की जगह - Best Tourist Places Agartala in Hindi

मेरे प्रिय पाठक आपका प्रेम पूर्वक नमस्कार हमारे इस नए लेख में,  इस लेख में हम त्रिपुरा की अगरतला घूमने की संपूर्ण जानकारी देंगे अतः आपसे अनुरोध है कि हमारे इस लेख को पूरा अंत तक पढ़ें | 

अगरतला में घूमने की जगह - Best Tourist Places Agartala in Hindi
Nature

अगरतला के पर्यटक स्थल की एक झलक - Agartala Tourist Places in Hindi

अगरतला भारत के एक महत्वपूर्ण राज्य त्रिपुरा की राजधानी है। यह एक बेहद आकर्षक स्थल है। नदी के किनारे बसा यह शहर अपनी प्राचीनता के लिए बेहद मशहूर है। इस की समृद्ध संस्कृति विविधता और प्राकृतिक सौंदर्य से कौन परिचित नहीं है। अगरतला का इतिहास माणिक्य के राजा के नाम से जाना जाता है। अगरतला का प्राकृतिक सौंदर्य यहां की वनस्पतियां और घाटियों से मिलकर बनता है। यह शहर 800 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह एक धार्मिक स्थल भी है। तो आइए दोस्तों हम अंदर प्रवेश करते हैं अगरतला शहर में और जानते हैं कि यह किन-किन चीजों के लिए प्रसिद्ध है।

त्रिपुरा की राजधानी - Capital of Tripura in Hindi :

त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में है | 

अगरतला शहर का इतिहास - Agartala history in Hindi :

  • इस बेहद खूबसूरत शहर का एक अपना इतिहास है। इस शहर में अक्सर इतिहास प्रेमी आया करते हैं। 
  • यदि बात करें इस शहर के नामकरण की तो इसका नाम अगार के पेड़ों पर पड़ा है।
  • इसके अलावा इस शहर के नाम के संदर्भ में एक और किंवदंति प्रसिद्ध है कि राजा रघु ने एक बार हाथी के पैर को लहिता नदी के किनारे अग्र वृक्ष से बांध दिया था और तभी से इस स्थल का नाम अगरतला पड़ गया। 
  • अगरतला शहर लोक कथाओं का शहर है। ऐसी लोक कथाएं जो यहां पर सालों से वाचिक परंपरा के द्वारा सुनाई जाती है। इन लोक कथाओं में राजा पाटनदान, राजा चित्ररथ, राजा दोपपति, राजा धर्मपथ, राजा लोकपथ इत्यादि राजाओं का नाम सुना जा सकता है। 
  • इसके अतिरिक्त अगरतला शहर का इतिहास अंग्रेजों के जमाने से भी जुड़ा हुआ है। औपनिवेशिक भारत के दौरान अंग्रेज जब यहां पर आए तो उन्होंने अगरतला तथा उत्तर पूर्वी भारत के कई जगहों पर चाय और कॉफी के बागान बनवाए थे और वहां पर उनकी खेती करवाई थी। 
  • इसके अतिरिक्त अगरतला के प्रसिद्ध राजा बीर बिक्रम किशोर माणिक्य का नाम भी इस शहर से जुड़ा हुआ है। 
  • अगरतला मुगल शासन का भी एक साक्षी शहर रहा है। 
  • अगरतला को महारानी कंचन प्रवा देवी ने 15 अक्टूबर 1949 को सरकार को विलय की अनुमति दे दी थी। सन 1963 तक त्रिपुरा संघ शासकीय प्रदेश बना रहा था सन 21 जनवरी 1972 में उसे पूर्ण राज्य का दर्जा प्राप्त हुआ। 

अगरतला की संस्कृति - Culture of Agartala in Hindi :

  • दोस्तों अगरतला भारत के उत्तर पूर्वी इलाके में स्थित है। इसकी संस्कृति से हर कोई इतना परिचित नहीं। लेकिन पर्यटक जैसे ही अगरतला शहर में प्रवेश करते हैं वैसे ही वे उसकी संस्कृति में ऐसे रम जाते हैं जैसे वह सालों से परिचित हो।
  • हम फिर हम आपको उनकी संस्कृति के संदर्भ में कुछ संक्षिप्त बातें जरूर बता देते हैं। अगरतला में रहने वाली मूल जनजाति है त्रिपुरी, टिपरा और टिपराह।
  • वहां पर बोली जाने वाली तो स्थानीय भाषा है- कोकबोरोक और बंगाली।
  • वहां की कुछ लोग हिंदी और अंग्रेजी भी जानते हैं।

अगरतला में रहने वाली मूल जनजाति है - Agartala Mein Rahane Wali Mul Janjati :

 त्रिपुरी, टिपरा और टिपराह।

अगरतला में बोले जाने वाली स्थानीय भाषा - Local language In Agartala :

अगरतला की मुख्य भाषा त्रिपुरी भाषा (कोकबोरोक) और बंगाली है लेकिन यहां पर कुछ लोग हिंदी और अंग्रेजी भी जानते हैं | 

अगरतला की स्थानीय वेशभूषा - Traditional wear of Agartala in Hindi :

  • अगरतला की स्थानीय वेशभूषा बेहद सुंदर और आकर्षक है। 
  • महिलाओं की वेशभूषा है- ऊपर से आधे हिस्से में चमकीले रंग के रिसा और रिकूटू से बनी सूती कपड़े पहनती है और नीचे विशिष्ट पैटर्न से बनी रिगनाई। पुरुष ऊपर से क कंक्लवी बोरोक पहनते हैं।

अगरतला का स्थानीय संगीत और त्योहार - Local music and festivals of Agartala in Hindi :

  • दोस्तों अगरतला शहर के स्थानीय त्यौहार में कुछ महत्वपूर्ण त्यौहार हैं जैसे कि दुर्गा पूजा ,खाची पूजा , नारंगी पर्यटन महोत्सव और बुड्ढा मेला शामिल है |
  • इसके अतिरिक्त यहां पर होने वाली नौका दौड़ भी बेहद प्रसिद्ध है जिसका आयोजन हर साल होता है। तो पर्यटक यदि अगरतला में आए तो वहीं स्थानीय मेलों और त्यौहारों का हिस्सा जरूर बने।

अगरतला में घूमने वाले मुख्य पर्यटक स्थल - Famous Tourist Place In Agaratala In Hindi :

अगरतला का उज्जयंता पैलेस - Ujjayanta Palace Agartala in Hindi :

  • यह अगरतला का एक शाही महल था। 2011 में अगरतला का यह उज्जयंता पैलेस त्रिपुरा के विधान सभा में तब्दील हो गया। 
  • इस पैलेस की खासियत इसके प्राकृतिक सौंदर्य में है। यह पैलेस झील के किनारे स्थित है। इसका क्षेत्रफल 28 हेक्टेयर है। इस पैलेस के भीतर कई हिंदू मंदिर- जैसे उमा महेश्वरी, लक्ष्मीनारायण, काली और जगन्नाथ जी के समर्पित मंदिर है। 
  • इस महल का निर्माण त्रिपुरा नरेश महाराज राज किशोर माणिक्य ने 1898 से 1901 के बीच में करवाया था। तो दोस्तों हमने यह देखा कि यह पैलेस इतिहास और प्रकृति और वास्तु शिल्प की दृष्टि से बेहद सुंदर है।

नीर महल अगरतला का बेहद खूबसूरत पैले - Lake Palace the Beautiful Palace of Agartala in Hindi :

  • जैसा कि नाम से ही प्रसिद्ध है कि यह एक तरह का जल महल है। इसका निर्माण राजा वीर विक्रम किशोर द्वारा करवाया गया था। 
  • एक तरह से देखें तो यह राजा का ग्रीष्मकालीन महल था।
  • जिसमें बेहद सुंदर लॉन फूलों के बगीचे इत्यादि स्थित है। राजा के लिए यह एक तरह का वाटर स्पॉट था।
  • आज यह नीरमहल अपनी वस्तु कला के लिए बेहद प्रसिद्ध है। दूर-दूर से पर्यटक इस की बारीक नक्काशी को देखने आते हैं।

अगरतला का सिपाही जिला वन्य जीव अभ्यारण - Sipahijola wildlife sanctuary of Agartala in Hindi :

  • अगरतला का यह वन्य जीव अभ्यारण पक्षियों और प्राइवेट प्रजातियों के लिए बेहद प्रसिद्ध है। इसके भीतर एक झील भी है। 
  • यह वन्य जीव अभ्यारण पर्यटकों के लिए भी खुला हुआ है। यहां पर आकर पर्यटकों के लिए बोटिंग की सुविधा भी उपलब्ध है। यहां पर आवासी एवं प्रवासी पक्षियों को शरण मिलता है।
  • इसके अलावा इस वन्य जीव अभ्यारण में एक चिड़िया घर भी है। पर्यटकों की सुविधा के लिए तथा उनके मनोरंजन के लिए यहां पर हाथी आनंद सवारी की भी सुविधा है। 
  • अगरतला के कुछ प्रसिद्ध कॉफी बागान सिपाहिज़ला वन्य जीव अभ्यारण के भीतर आते हैं जिनमें कॉफी की 150 प्रजातियां पाई जाती है। 
  • तो दोस्तों यहां पर वनस्पतियों और जीव-जंतुओं की विविधता को करीबी से महसूस करने के लिए आप इस वन्य जीव अभ्यारण में प्रवेश कर कुछ आनंद की अनुभूति जरूर करेंगे।

अगरतला का खूबसूरत सुंदरी मंदिर - Beautiful Sundari Mandir of Agartala in Hindi :

  • अगरतला का यह खूबसूरत मंदिर शहर से 55 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस मंदिर की खासियत इसकी प्राचीनता में निहित है। यह मंदिर 500 साल पुराना है। 
  • देश के 151 शक्तिपीठों में से एक शक्ति पीठ इस सुंदरी मंदिर में निहित है। 
  • सुंदरी मंदिर का पौराणिक महत्व है लोक कथाओं के आधार पर ऐसा माना जाता है कि सती के दाहिने पैर का अंगूठा यहां पर गिरा था और तभी से इसको सुंदरी मंदिर स्थापित माना जाता है। इस मंदिर में आकर इष्ट देव के दर्शन होते हैं। 
  • भगवान विष्णु ने देवी सती को 51 भागों में काटा था यह मंदिर उन्हीं देवी को समर्पित है। 
  • यह मंदिर कछुआ आकार का है। इसको कुरमा पीठ के नाम से भी जाना जाता है।

अगरतला का प्रसिद्ध गंडचेरा वन्य जीव अभ्यारण - The Very Famous GandaCherra Wildlife Sanctuary of Agartala in Hindi :

  • अगरतला के अन्य वन्य जीव अभ्यारण की भांति ही यह भी जीव जंतु एवं वनस्पति की विविधता से ओतप्रोत है। यहां पर पाई जाती हैं जंगली घोड़े, जलीय जीव, बाघ, आवासी एवं प्रवासी पक्षी। यहां का प्राकृतिक सौंदर्य पर्यटकों के ह्रदय को पल्लवित कर देता है। यहां पर आकर उन्हें एक अलग सुख की अनुभूति होती है।

अगरतला का धार्मिक स्थल जगन्नाथ मंदिर - Religious Spot of Agartala Jagannath Temple In Hindi :

  • अगरतला का यह प्रसिद्ध जगन्नाथ मंदिर 19वीं शताब्दी में निर्मित करवाया गया था। 
  • इसके निर्माता भी माणिक्य के राजा थे। यह मंदिर उज्जयंता महल के मैदान में स्थित है इस मंदिर में जगन्नाथ बलभद्र और सुभद्रा जैसे देवी देवताओं की मूर्ति स्थापित है। 
  • पर्यटकों को यहां पर आकर एक आध्यात्मिक माहौल की अनुभूति होती है। इस महल की खासियत अगरतला से जुड़े कुछ पौराणिक मान्यताओं में निहित है। 
  • इस मंदिर की खूबसूरत एवं बारीक नक्काशी पर्यटकों को सहज ही आकर्षित करती है

अगरतला की खूबसूरत राइमा घाटी - The Very Beautiful Raima Valley of Agartala in Hindi :

  • अगरतला की आकर्षक राइमा घाटी मूल रूप से एक आदिवासी जगह है। यहां के मूल निवासी यहां की स्थानीय प्रजाति जातियां है। यहां के बगीचे और सुंदर वृक्ष दिल को लुभा देने वाला दृश्य देते हैं। इसके प्राकृतिक सौंदर्य के चलते पर्यटकों का हृदय बहुत ही खुशनुमा हो जाता है

अगरतला का ऐतिहासिक कुंजबन पैलेस - The Historical Kunjban Palace of Agartala in Hindi :

  • अगरतला के इस खूबसूरत महल का इतिहास राजा बिरेंद्र किशोर माणिक्य से जुड़ा हुआ है। राजा बिरेंद्र किशोर माणिक्य ने इस महल का निर्माण 1917 में करवाया था। 
  • आज यह महल त्रिपुरा के राज्यपाल का आधिकारिक निवास स्थान है। यह महल अपनी जटिल नकाशी के लिए जाना जाता है।
  • इसकी अद्भुत संरचना और शानदार बगीचे इसकी सुंदरता में चार चांद लगा देते हैं। इसकी स्थापत्य कला और वास्तुकला से पर्यटक बहुत जल्दी ही परिचित हो जाते हैं।
  • अतः दोस्तों अगरतला की स्थानीय नकाशी और उसके अतीत को नजदीकी से जानने के लिए आप इस पैलेस में आना ना भूले।

अगरतला का आध्यात्मिक बुद्ध मंदिर - The Spiritual Place of Agartala Buddha Mandir in Hindi :

  • अगरतला का यह प्राचीन मंदिर शहर से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पर्यटकों को यहां से टैक्सी की सुविधा शहर से ही उपलब्ध हो जाती है। 
  • यह प्राचीन मंदिर एक समय पर बौद्धों का निवास स्थान हुआ करता था। यहां पर आकर पर्यटक अगरतला में निहित बौद्ध संस्कृति को पहचान पाते हैं। तो दोस्तों यहां पर हम अलग-अलग मंदिरों को देखने के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं कि अगरतला कई संस्कृतियों का मिलाजुला समन्वय है और उन सभी मिले-जुले समन्वय के साक्षी रहे हैं यह सभी पर्यटक स्थल। तो आप इस बुद्ध मंदिर में आकर उस समय में संस्कृति को पहचाने

अगरतला की अद्भुत जंपूई हिल - Jumpui Hill of Agartala in Hindi :

  • अगरतला की यह बेहद खूबसूरत पहाड़ियां वसंत की जीवंतता के लिए बेहद प्रसिद्ध है। यह हरी-भरी पहाड़ियां जितनी दूर से सुंदर लगती है उतनी ही करीब से भी। 
  • इन पहाड़ियों पर आर्किड और चाय के बागान है। इसके अतिरिक्त यहां पर सुंदर-सुंदर नारंगी के बगीचे भी देखने को मिल जाते हैं। 
  • जंपूई हिल से देखा जाने जान देखा जाने वाला घाटियों का सुंदर नजारा पर्यटकों के ह्रदय को खुश कर देता है प्रकृति प्रेमियों के लिए यह जगह सर्वोत्तम है।
  • अगरतला शहर में आकर ट्रैकिंग करने के लिए जंपूई हिल एक सर्वोत्तम विकल्प है। पर्यटकों को इस बात का ध्यान रखने की जरूरत है कि जंपूई हिल के लिए ट्रैकिंग एक कठिन और रोमांचक गतिविधि होगी तो वे जरूरी सावधानी जरूर बरतें।

अगरतला का प्रसिद्ध नेहरू पार्क - Famous Nehru Park of Agartala in Hindi :

  • अगरतला में कई ऐसे पार्क हैं जहां पर पर्यटक एक सुहावनी शाम बिता सकते हैं। उन्हीं में से एक पार्क नेहरू पार्क। 
  • अगरतला का यह नवनिर्मित पार्क है जिसका उद्घाटन सन 2003 में हुआ था। बच्चों तथा बड़ों दोनों के लिए यह पार्क एक बहुत ही सुंदर विकल्प है। 
  • यहां पर आकर एक सुहावने वातावरण की अनुभूति हो सकती है। बच्चों के लिए झूले और बड़ों के लिए बैठने के लिए बेंच और घास के मैदान इस पार्क में दूर-दूर तक फैले है।

उन्नामेश्वर मंदिर अगरतला का धार्मिक स्थल - Unnameshwar Temple Agartala in Hindi :

  • अगरतला में स्थिति यह धार्मिक स्थल केसरी रंग का है। इससे के चलते इसकी सुंदरता में और निखार आ जाता है।
  •  यह मंदिर बंगाल की संस्कृति पर केंद्रित होकर बनवाया गया है। दूर-दूर से पर्यटक यहां पर आकर एक आध्यात्मिक एवं धार्मिक अनुभूति पाते हैं। 
  • इस मंदिर की संरचना में जो बारीकी है वह बेहद सराहनीय है। अतः इस मंदिर की खूबसूरती को और पास से देखने के लिए आप इस मंदिर में दर्शन करने जरूर आएं पूर्णिया

अगरतला का सुंदर हेरिटेज पार्क - Heritage Park of Agartala In Hindi :

  • अगरतला में मौजूद सभी पार्कों में से हेरिटेज पार्क सबसे बड़ा और विशाल पार्क है। 
  • इसका निर्माण 2012 में हुआ था। यह पार्क बच्चों, बड़ों सभी प्रकार के लोगों के लिए खुला है। इस पार्क में कई तरह के जीव और जंतु भी पाए जाते हैं।
  • यहां की वनस्पतियों की विविधता भी बेहद अतुलनीय है। इस पार्क में आकर बिताए जाने वाली शाम बहुत सुंदर होती है। 
  • इस पार्क के आसपास का माहौल एकदम खिला-खिला एवं सौंदर्यमान होता है।
  • पर्यटकों को हम यह बता दें कि इस पार्क की कोई एंट्री फीस नहीं है। 
  • यह पार्क सुबह 10:00 बजे से लेकर शाम के 7:00 बजे तक खुला रहता है। तो पर्यटक अगरतला में आए तो इस हेरिटेज पार्क में सुंदर वातावरण की अनुभूति का लुफ्त उठाना ना भूले।

अगरतला का लुभावना कमलासागर - Kamla Sagar Agartala in Hindi :

  • अगरतला का यह बेहद लुभावना कमलासागर बहुत सुंदर है। दूर-दूर से पर्यटक इसके अद्भुत नजारे को देखने के लिए आते हैं। इस सागर के आसपास कई सरकारी लॉज है जहां पर आप बुकिंग कर सकते हैं।
  • कमला सागर के किनारे ही स्थित है कमलेश्वरी मंदिर। यह मंदिर काली माता को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण महाराजा माणिक्य बहादुर ने 15वीं शताब्दी में करवाया था।

अगरतला का स्थानीय खान पान - Local food of Agartala in Hindi :

  • यूं तो अन्य सभी पर्यटक स्थलों के भांति अगरतला में भी कॉन्टिनेंटल फूड मिल जाता है। लेकिन आप भी जानते हैं कि जिस पर्यटक स्थल पर यदि हम घूमने जाएं वहां का यदि स्थानीय खानपान हम ना चखें तो यात्रा कुछ कुछ अधूरी सी लगती है। 
  • तो आइए दोस्तों थोड़ी सी नजर डालते हैं अगरतला के स्थानीय व्यंजनों पर। यहां के स्थानीय व्यंजनों में बरमा बहुत प्रसिद्ध है जो पुती मछली को सुखाकर बनाया जाता है और जिसको चावलों के संग खाया जाता है। 
  • बोरोक यहां का पारंपरिक व्यंजन है। 
  • इसके अलावा यहां पर चुआक चावल से बनी बियर भी बेहद प्रसिद्ध है। अगरतला में चावल की खेती होती है इसलिए उससे बने हुए विभिन्न खानपान यहां पर आप देख सकते हैं।
  • बाजरा चावल का पेय पदार्थ भी अगरतला का एक लोकप्रिय व्यंजन है इसके अलावा यहां पर त्रिपुरी चटनी और कुछ अन्य समुद्री भोजन जैसे कछुए, केकड़े, झींगे इत्यादि लोकप्रिय हैं। अगरतला में बंगाली मिठाई भी केवल उस शहर में नहीं बल्कि पूरे राज्य भर में प्रसिद्ध है

अगरतला में जाने का सर्वोत्तम समय - Best time To visit Agartala in Hindi :

  • अगरतला में घूमने का सर्वोत्तम समय है अक्टूबर से मार्च तक। इस समय अगरतला का वातावरण घूमने के बेहद अनुकूल होता है। मार्च के बाद यदि पर्यटक घूमने जाते हैं तो उन्हें इस बात का ध्यान रखना होगा कि मार्च के बाद तापमान बढ़ने लगता है और अत्यधिक मात्रा में गर्मी होती है। 
  • जून के बाद जाने से वहां पर बहुत तेज बारिश होती है तो पर्यटक शायद वहां पर घूमने का और अन्य पर्यटक स्थलों पर जाने का मजा ना उठा पाएं तो यदि पर्यटक अगरतला में ज्यादा से ज्यादा जगहों पर घूमना चाहते हैं तो वे अक्टूबर से मार्च तक के समय में जाएं और वहां के सुहावने मौसम का भी लुत्फ उठाएं।

 हवाई मार्ग से अगरतला कैसे पहुंचे - How to reach Agartala by Flight in Hindi :

  • फ्लाइट से अगरतला जाने का विचार बेहद सुविधा पूर्ण है। अगरतला का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा है अगरतला एयरपोर्ट। जो कोलकाता, दिल्ली, सिलचर और इंफाल, चेन्नई जैसे शहरों से जुड़ा हुआ है।

रेल मार्ग ज़रिये अगरतला कैसे पहुँचे - How to Reach Agartala By Train in Hindi :

  • अगरतला में रेल मार्ग के जरिए पहुंचने का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन है जोगेंद्रनगर, अगरतला रेलवे स्टेशन तथा गंगा सागर रेलवे स्टेशन। इनमें से आप किसी भी रेलवे स्टेशन पर पहुंच सकते हैं यहां से अगरतला शहर कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां से पर्यटकों को टैक्सी अथवा ऑटो की सुविधा सहज ही उपलब्ध हो जाएगी।

सड़क मार्ग के जरिए अगरतला कैसे पहुंचे - How to Reach Agartala By Road in Hindi : 

  • अगरतला पहुंचने के लिए पर्यटक यदि सड़क मार्ग अपना रहे हैं तो हम उन्हें बता दें कि अगरतला तक पहुंचने के लिए डीलक्स एवं सेमी डीलक्स बसों की सुविधा उपलब्ध है। अगरतला का बस स्टैंड कोलकाता, गुवाहाटी, सिलचर तथा शिलांग जैसे बड़े शहरों से जुड़ा हुआ है। अगरतला का बस मार्ग बेहद सुंदर नजारों से होते हुए आपको आपके गंतव्य तक पहुंचा देगा।
Nature