श्री भद्र मारुती मंदिर खुलदाबाद - Shri Bhadra Maruti Temple Khuldabad in Hindi

सभी पाठकों को हमारा नमस्कार। आज हम अपने इस लेख के जरिये आपको औरंगाबाद में स्थित भद्र मारुती मंदिर की सैर कराएँगे साथ ही उसकी संपूर्ण जानकारी भी आपके साथ साँझा करेंगे। इस अद्भुत मंदिर की सैर के लिए और साथ ही यहाँ की संपूर्ण जानकारी के लिए लेख को अंत तक ज़रूर पढ़ियेगा।

श्री भद्र मारुती मंदिर खुलदाबाद - Shri Bhadra Maruti Temple Khuldabad in Hindi
Nature

भद्र मारुती मंदिर औरंगाबाद - Bhadra Maruti Temple Aurangabad in hindi: 

  • भद्र मारुती मंदिर महाराष्ट्र राज्य में औरंगाबाद के खुलताबाद में स्थित है। यह प्राचीन मंदिर एलोरा की गुफाओं से मात्र 4 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। यह मंदिर हिन्दू देवता श्री हनुमान जी को समर्पित है। 
  • हम सभी ने अक्सर हनुमान जी की विभिन्न मूर्तियों के दर्शन तो अवश्य किये होंगे, उन्हें कहीं खड़ा देखा होगा तो कहीं हाथों में पहाड़ उठाये, कहीं सीना चीरते देखा होगा तो कहीं राम धुन में लीन हुए देखा होगा। 
  • लेकिन निद्रा की मुद्रा में हनुमान जी मूर्ति को देखना एक अनोखा अनुभव होगा। यह मंदिर इसलिए प्रसिद्ध है क्योंकि भारत में मात्र केवल 3 ही स्थानों पर हनुमान जी की लेटी हुई मुद्रा में मूर्ति स्थापित है। और भद्र मारुती मंदिर उनमें से एक है, जिस कारण यह मंदिर पर्यटकों का मुख्य केंद्र बना हुआ है। दूर-दूर से यात्री इस अनोखी मूर्ति के दर्शन करने आते हैं।   

भारत में कहाँ-कहाँ हनुमान जी की लेटी हुई मुद्रा में मूर्तियाँ स्थित हैं - From Where In India We Get Lie Down Statue of Hanuman in Hindi : 

संपूर्ण भारत में मात्र तीन ही जगहों पर हनुमान जी की लेटी हुई मुद्रा में मूर्तियाँ पाई जाती हैं-

  • भद्र मारुती औरंगाबाद ,  महाराष्ट्र
  • कोतवाली मंदिर- प्रयाग, इलाहाबाद
  • खोले के हनुमान जी- राजस्थान

भद्र मारुती मंदिर का इतिहास - History of Bhadra Maruti Temple Aurangabad in Hindi :

  • औरंगाबाद के भद्र मारुती मंदिर को पहले ‘भद्रावती’ भी कहा जाता था। क्योंकि खुलताबाद के राजा भद्रसेन बहुत बड़े राम भक्त थे  जिन्होंने इस मंदिर की स्थापना कराई थी। 
  • यहाँ ऐसी दंतकथा प्रचलित है कि एक बार राजा भद्रसेन राम भक्ति में लीन होकर भजन गा रहे थे और उन मीठे भजनों को सुन श्री हनुमान जी उनके पास बैठकर मंत्रमुग्ध होकर भजन सुनते हुए भाव-समाधि में लीन हो गए।
  • राजा ने जब हनुमान जी को देखा तो उनसे हमेशा के लिए वहीं बस जाने का निवेदन करते हुए उन्हें भी राम भक्ति का वरदान देने को कहा। तब से श्री हनुमान जी उसी भाव-समाधि की मुद्रा में वहाँ विराजमान हैं।
  • कुछ लोग ऐसा भी मानते हैं कि लक्ष्मण के प्राण बचाने के लिए संजीवनी लाते समय हनुमान जी ने इस स्थान पर विश्राम किया था।

भद्र मारुती मंदिर जाना कब उचित है - Best Time To Visit Bhadra Maruti Temple Aurangabad in Hindi :

  • राम नवमी और हनुमान जयंती को भद्र मारुती मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ भारी मात्रा में दिखाई देती है। इसके अलावा हिन्दू कैलेंडर के श्रावण मास के अनुसार महीने के शनिवार मंदिर में हनुमान जी की पूजा अर्जन के लिए लाखों की संख्या में यात्री आते हैं।
  • यदि आप औरंगाबाद घूमने का प्लान बना रहे हैं तो औरंगाबाद के भद्र मारुती मंदिर की सैर करने का मौका मत छोड़ियेगा। क्योंकि यहाँ की अद्भुत और अनोखी मूर्ति पूरे भारत में दुर्लभ है। भद्र मारुती मंदिर के विशाल परिसर में आपको काफी शांति का अनुभव होगा और आप अपनी सभी चिंताओं से थोड़े वक्त के लिए ही मुक्त होने का अनुभव करेंगे। 

औरंगाबाद के भद्र मारुति मन्दिर के आस-पास घूमने वाले स्थान - Things To Do Near Bhadra Maruti Aurangabad In Hindi :

  • भद्र मारुति मन्दिर की यात्रा के बाद आप यहाँ से अन्य स्थानों की भी यात्रा कर सकते हैं, उनमें से एलोरा की गुफाएँ सबसे प्रमुख और बेहद आकर्षक और सुंदर गुफाओं में से एक हैं। इन गुफाओं में तीन धर्मों के तत्वों के साथ प्राचीन मूर्तियों का भी संरक्षण किया गया है। जिन्हें देखना आपको रोमांचित कर देगा।
  • एलोरा की गुफाओं के काफी नजदीक ग्रिनेश्वर मन्दिर है, जो 12 पवित्र ज्योतिर्लिंगों में से एक माना जाता है। इस प्राचीन और पवित्र मन्दिर की यात्रा करना आपको सुखद अनुभव प्रदान करेगा। 
  • इसके अलावा आप औरंगज़ेब के मकबरे की भी सैर कर सकते है जो भद्र मारुती मन्दिर से काफी नजदीक है। इस आकर्षक मकबरे में आप मुगलकालीन शैली में बने स्तम्भों, गुम्बदों और अन्य वास्तुकला का नमूना देख सकते हैं। यानी भद्र मारुती की यात्रा के साथ आप इन सभी स्थानों की यात्रा का आनंद एक साथ उठा सकते हैं।
Nature