एलोरा गुफा घूमने की संपूर्ण जानकारी तथा इतिहास से जुड़े तथ्य - Ellora Caves In Hindi

मेरे प्रिय पाठक आपका प्रेम पूर्वक नमस्कार हमारे इस नए लेख में इस लेख में हम महाराष्ट्र के एलोरा गुफा घूमने की संपूर्ण जानकारी तथा इतिहास से जुड़े तथ्य को बताएंगे अतः आपसे अनुरोध है की संपूर्ण जानकारी के लिए हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ें | 

एलोरा गुफा घूमने की संपूर्ण जानकारी तथा इतिहास से जुड़े तथ्य - Ellora Caves In Hindi
Nature

एलोरा गुफा की जानकारी - About Ellora Cave in Hindi :

  • भारत देश अपने अद्भुत वास्तुकला के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है | जब भी अद्भुत कला की बात होती है तो अजंता और एलोरा की गुफा  प्रथम स्थान लेता है |
  • एलोरा भारत के महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद स्थित है |  
  • इस गुफा को यूनेस्को विश्व धरोहर में शामिल किया गया है ।
  • एलोरा परिसर एक अद्वितीय कलात्मक रचना और एक तकनीकी शोषण है।
  • एलोरा गुफा में बौद्ध धर्म , हिंदू धर्म ,जैन धर्म में समर्पित अपने भावों के साथ भाईचारे और सहिष्णुता  को प्रदर्शित करता है।  जो कि प्राचीन भारत की विशेषता थी।
  • एलोरा गुफा को एलुरा के नाम से भी जाना जाता है।
  • एलोरा गुफा अपने जैन हिंदू और बौद्ध धर्म के स्मारकों के लिए जाना जाता है।
  • एलोरा गुफा को 6 वीं से 8 वीं शताब्दी ईस्वी में स्थानीय चट्टान से उकेरा गया था। 
  • एलोरा गुफा का सबसे शानदार उदाहरण 8 वीं शताब्दी सीई कैलासा मंदिर है। 
  • एलोरा की गुफा में कुल 34 गुफाएं हैं |जो इस प्रकार हैं -  बौद्ध  गुफाएं (1-12)  ,हिंदू गुफाएं (13-29) , जैन गुफाएं (30-34 ) अर्थात 12 बौद्ध गुफाएं , 17 हिंदुओं गुफाएं , 5 जैन गुफाएं |


एल्लोरा गुफा का इतिहास - Ellora Caves history in Hindi :

  • एलोरा गुफा में जो सबसे दक्षिण में है लगभग 200 BCE से लेकर 600  CE तक की 12 बौद्ध गुफाएं खुदाई की हुई है तथा मध्य में बना हुआ 17 हिंदू मंदिर  500 CE से लेकर 900 CE तक के मध्य बना हुआ है और अंत में सबसे उत्तर में बना हुआ जैन मंदिर 800 CE से लेकर 1000 CE तक के समय में बना है |
  • एलोरा केव में बना हुआ जैन धर्म से संबंधित सभी गुफाओं का निर्माण यादव वंश के शासन काल में निर्माण किया गया था |
  • इतिहासकारों के अनुसार एलोरा गुफा का निर्माण राष्ट्रकूट वंश के शासकों के द्वारा निर्माण करवाया गया था |

एलोरा की गुफा क्या है - What Is Ellora Caves in Hindi :

  • एलोरा की गुफा एक विश्व यूनेस्को विश्व विरासत स्थल है
  • दुनिया में सबसे बड़ी रॉक-कट मठ मठ-मंदिर गुफाओं में से एक है। महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में स्थित है | 

एलोरा की गुफा किसने बनवाई - Who Built Ellora Caves in Hindi : 

  • एलोरा की गुफाओं का निर्माण राष्ट्रकूट वंश के शासकों द्वारा निर्मित कराई गई थी |
  • ये गुफाएँ विषय और स्थापत्य शैली के रूप में प्राकृतिक विविधता को दर्शाती हैं।

एलोरा की गुफाएं कहां स्थित है - Where Is Ellora Cave Situated in Hindi : 

  • एलोरा की गुफाएं महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में स्थित है  यह औरंगाबाद रेलवे स्टेशन से 30 किलोमीटर उत्तर दिशा में स्थित है  अर्थात घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग से 2 किलोमीटर की दूरी पर है |

एंट्री फीस एलोरा गुफा की - Entry Fees of Ellora Caves in Hindi : 

  • भारतीय तथा SAARC  और BIMSTEC  देश के नागरिकों के लिए-  ₹40
  • विदेशी नागरिक के लिए-  ₹600 
  • वीडियो कैमरा अंदर लेकर जाते हैं तो - ₹25 

एलोरा गुफा के आसपास के पर्यटक स्थल - Tourist Place Near Ellora Cave in Hindi :

एलोरा की गुफा घूमने के बाद यदि आपके पास समय है तो आप  यहां पर भी घूम सकते हैं- 

ग्रीष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग - 12 ज्योतिर्लिंग में से 1 ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के औरंगाबाद में स्थित है यह ज्योतिर्लिंग एलोरा की गुफा से 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है | इस ज्योतिर्लिंग की एक ऐसी मान्यता है कि यहां पर पुरुषों को दर्शन करने के लिए अपने कपड़े उतार कर मंदिर में प्रवेश करते हैं |

भद्र मारुति टेंपल-  यह मंदिर हनुमान जी को समर्पित है इस मंदिर की दूरी ग्रीष्णेश्वर  ज्योतिर्लिंग से 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है |

औरंगजेब की कब्र- मुगल शासक औरंगजेब को औरंगाबाद में ही दफनाया गया  आप लोग यहां भी घूम सकते हैं | 

दौलताबाद का किला- एलोरा घूमने के बाद दौलताबाद का किला भी घूम सकते इस किला को घूमने के लिए कम से कम 2 से 3 घंटे का समय लगता है | 

अजंता की गुफाएं- अजंता की गुफा एलोरा से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है |अजंता की गुफा घूमने के लिए 2 से 3 घंटे का समय लगता है |

एलोरा की गुफा में पर्यटकों को देखने योग्य आकर्षण - 

एलोरा गुफा में  हिंदू गुफा का निर्माण - indian Hindu Cave in Hindi:

  • औरंगाबाद के पहाड़ियों में स्थित एलोरा भारत के प्राचीन वास्तुकला का सबसे महत्वपूर्ण स्थल है। एक पहाड़ी के पक्ष में चट्टानों से निर्मित ज्वालामुखी बेसाल्ट, 35  गुफाएं और रॉक कट मंदिर है। जो छठी और सातवीं शताब्दी मे कलचुरी राजवंश के शासनकाल के दौरान निर्मित किया गया था। आरंभिक हिंदू मंदिर में गर्भगृह  बनवाया जाता था।
  • गुफा में बाहर की ओर नदी देवी की नक्काशी की गई है, जिससे प्रवेश द्वार पर हैं नदी मूर्तिकला है अंदर की ओर दोनों तरफ बड़े नाचते हुए शिव हैं जो संगीतकारों से घिरे हुए हैं और मां दुर्गा दानव बहस और राजाओं का वध कर रही हैं ।

 हिंदू स्मारक गुफाएं:

  • इतिहासकारों के अनुसार हिंदू गुफाओं का निर्माण एलोरा केव में छठवीं से आठवीं शताब्दी के बीच हुआ था | इन गुफाओं में हिंदू धर्म के अनेक गुफा उपस्थित जो इस प्रकार हैं |  


1. एलोरा में कैलाश मंदिर - Kailash Mandir Cave in Hindi :

एलोरा में तीन प्रकार की गुफाएं हैं।

  1. महायानी बौद्ध गुफाएं
  2. पौराणिक हिंदू गुफाएं
  3. दिगंबर जैन गुफाएं
  • इन गुफाओं में केवल एक गुफा 12 मंजिल का है जिसे कैलाश मंदिर कहा जाता है।
  • इन गुफाओं के 1 किलोमीटर पर बसा एक एलोरा गांव है इसी गांव के कारण इसका नाम एलोरा गुफा पड़ा।
  • कैलाश मंदिर अपनी जंगलों की दुनिया के सबसे शानदार और खूबसूरत स्मारकों में से एक है।और सबसे बड़ा राॅक - कट संरचना है।
  • कैलाश दक्षिणी द्रविड़ मंदिर शैली के सबसे उत्तरी उदाहरण है ,नाम से स्पष्ट यह मंदिर ऐसा प्रतीत होता है कि यह भगवान शिव को समर्पित था।
  • कैलाश मंदिर का निर्माण राष्ट्रकूट  वंश के कृष्ण द्वारा पल्लव पर अपनी जीत हासिल करने के बाद जश्न मनाने के लिए निर्माण किया गया था |

कैलास मंदिर की मूर्ति कला - Sculpture of Kailash Mandir in Hindi :

  • एलोरा की मूर्तिकला तंत्र खूबसूरत और अनुपम है।
  • गुप्त काल के बाद इतना भव्य और आलीशान निर्माण और किसी काल में नहीं हुआ।
  • इन गुफाओं का सीधा संबंध बौद्ध जैन और हिंदू धर्म से है इसलिए भक्तों की भीड़ लगी रहती है।
  • भारत में ही नहीं अपितु देश विदेश में भी एलोरा की गुफाएं अपनी खूबसूरती और भव्यता की छाप छोड़ती हैं अतः देश-विदेश के पर्यटकों का भी आवागमन यहां बना रहता है।
  • यह गुफाएं अत्यधिक खूबसूरत और आकर्षण कौशल से परिपूर्ण है कि देखने वाले पर्यटक आश्चर्यचकित हो उठते हैं।पूरा क्षेत्र बहुत ही शांतिप्रिय वातावरण से परिपूर्ण है।
  • एलोरा के पास ही 'घृष्णेश्वर महादेव' का मंदिर है।

भव्य और देखने योग्य नक्काशी - Grand and visible carving :

  • एलोरा की गुफा 16 सबसे बड़ी गुफा है जिसमें सबसे ज्यादा खुदाई का कार्य किया गया।
  • यहां के कैलाश मंदिर में अत्यंत खूबसूरत और भव्य नक्काशी की गई है क्योंकि कैलाश की स्वामी भगवान शिव को समर्पित है।
  • यह मंदिर विरुपक्ष मंदिर से प्रेरित होकर बनाया गया था।
  • शिव का यह दोमंजिला मंदिर पर्वत की ठोस चट्टान को काटकर बनाया गया है और अनुमान है कि प्राय: 30 लाख हाथ पत्थर इसमें से काटकर निकाल लिया गया है।
  • एलोरा का वैभव भारतीय मूर्तिकला की मूर्धन्य उपलब्धि है।

2. रामेश्वरम मंदिर गुफा - Rameshwaram Mandir Caves in Hindi :

  • इस मंदिर के निर्माण का श्रेय कलचुरी वंश को दिया गया है।
  • कर्ज़ोन संग्रह: 'एलोरा की गुफाओं का दृश्य और डोलाटाबाद का किला'। 
  • 6 वीं शताब्दी के अंत में रामेश्वरा की हिंदू गुफा की खुदाई की गई थी और यह अपनी मूर्तियों की सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है।
  • नंदी के साथ एक आंगन, जिसमें एक पठार है, पर एक बरामदा है। 
  • यह दृश्य कामुक रूप से नक्काशीदार महिला आकृतियों को दर्शाता है जो बरामदे के खंभे के दोनों ओर कोष्ठक को सुशोभित करते हैं।

रामेश्वरम गुफा की मूर्तिकला - Sculpture of Rameshwaram Caves :

  • एलोरा का 'कैलाश मन्दिर' महाराष्ट्र के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में में से एक है, जो एलोरा की गुफ़ओं में स्थित है।
  • यह गुफा भी भगवान शिव को समर्पित है जिनकी लिंग के रूप में पूजा की गई थी।
  • एक मंच के ऊपर गुफा के ठीक सामने एक नंदी को रखा गया है। 
  • गुफा में एक आयताकार मंडप और गर्भगृह है।
  • मंडपा 16 फीट ऊँचाई का है और प्रत्येक कुंडली के दो छोरों को काटकर 251 फीट की दूरी पर 251 फीट है।
  • मण्डपा की दीवारें और उत्तर और दक्षिण की ओर एक-एक दो कोशिकाएँ बड़े पैमाने पर मूर्तिकला निरूपण करती हैं। 
  • दक्षिण की ओर दीवार पर पश्चिमी दीवार पर सप्तमातृकाओं, नटराज, काली और कला का प्रतिनिधित्व है। 
  • उत्तर कक्ष की दीवारों में शिव और पार्वती, सुब्रह्मण्य और महिषासुरमर्दिनी के विवाह का प्रतिनिधित्व है।
  • मंदिर के प्रवेश द्वार के दोनों ओर दो विशाल चित्रण हैं।
  • इसके उत्तर में रावणानुग्रह मूर्ति और इसके दक्षिण में शिव और पार्वती चौसर का खेल खेलते हैं। 
  • मंदिर का प्रवेश द्वार बहुत विस्तृत है।जिसे अलग-अलग खंडों में विभाजित किया गया है। और गहराई से नक्काशी की गई है। 

एलोरा की गुफा में जैन गुफाएं - Jain Cave in Hindi:

  • एलोरा की गुफाओं में जैनियों का आगमन हुआ था, इसलिए एलोरा में विश्व धरोहर स्थल पर अन्य गुफाओं की तुलना में नई गुफाएं हैं। 
  • 19 वीं और 11 वीं शताब्दी के बीच थायर गुफाओं का निर्माण किया गया था, लेकिन उन्हें समर्पित केवल पाँच गुफाएँ हैं। 
  • हालांकि, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि पत्थर पर नक्काशी के विस्तार और सरासर सुंदरता में वे कितनी गुफाओं को अपने से अधिक बनाते हैं।
  • एलोरा के उत्तरी छोर पर पांच गुफाएं हैं जो दिगंबर संप्रदाय से संबंधित है।
  • यह गुफाएं बौद्ध और हिंदू धर्म की गुफाओं से आकार में काफी छोटी है परंतु इनकी नक्काशी अत्यंत भव्य शाली और खूबसूरत है।
  • बाद के युग की हिंदू गुफाएं, एक समान समय में बनाई गई थीं और दोनों एक स्तंभित बरामदा, सममित मंडप और पूजा जैसे वास्तु और भक्ति विचारों को साझा करती हैं।
  • जैन गुफाओं में अपनी भक्ति नक्काशी के बीच कुछ शुरुआती समवसरण चित्र हैं। सामवारासन जैन के लिए हॉल होने का विशेष महत्व है, जहां तीर्थंकर केवल ज्ञान प्राप्त करने के बाद उपदेश देते हैं।

एलोरा की गुफा में बौद्ध गुफाएं - Buddha Cave in Hindi :

  • एलोरा गुफा में कुल 12 बौद्ध गुफाएं हैं, और यहाँ बौद्ध की मूर्तियां हैं।
  • इस स्थल को बौद्धों, हिंदुओं और जैनियों द्वारा पवित्र घोषित किया गया।
  • ये गुफाएँ दक्षिणी ओर स्थित हैं और इन्हें 630-700 CE, या 600-730 CE के बीच बनाया गया था । 
  • बौद्ध गुफाएं सबसे शुरुआती संरचना है जो पांचवी और छठी शताब्दी में बनाया गया था।
  • 12 बौद्ध गुफाओं में प्रार्थना स्थल और मठ शामिल है।
  • बड़े बड़े बहु मंजिला इमारत जिसमें पहाड़ पर चेहरे की नक्काशी की गई है देखने में अत्यंत खूबसूरत और भव्यशाली है। जिन में रहने वाले अन्य घर स्नान ग्रह शामिल है।
  • मठ की गुफाओं में गौतम बुद्ध बोधिसत्व की नक्काशी सहित मंदिर और मूर्ति सम्मिलित है।
  • कुछ गुफाओं में मूर्ति कारों ने पत्थर की लकड़ी का रूप देने का  प्रयास किया है ।
  • गुफाएं 5, 10, 11 और 12 वास्तुकला की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण गुफाएं हैं।
  • एलोरा गुफाओं के बीच गुफा 5 अद्वितीय है क्योंकि इसमें बुद्ध की प्रतिमा का बहुत ही खूबसूरती से नक्काशी की गई है।
  • गुफाएँ 11 और 12 मूर्तियों के साथ तीन मंजिला महायान मठ की गुफाएँ हैं।

एलोरा केव घूमने के लिए सबसे अच्छा समय - Best Time To Visit Ellora Caves in Hindi :

  • एलोरा केव  घूमने के लिए वैसे किसी भी मौसम में जा सकते हैं |
  • एलोरा केव  सावन के मौसम में घूमना अद्भुत आनंद मिलता है क्योंकि इस समय पहाड़ी  हरा भरा हो जाती है और पहाड़ी के ऊपर से गिरता हुआ पानी को देख देखकर एक अलग ही मजा मिलता है | 
  • जब आप सावन के मौसम में यहां आप फोटो खींचते हैं तो हरियाली के कारण बहुत सुंदर फोटो आती है |
  • अगर आप सावन के मौसम में नहीं आते हैं तो सर्दी के मौसम में आने की कोशिश करें अर्थात  उत्तम समय अक्टूबर से मार्च तक का होता है |
  • सर्दी के मौसम में भी नहीं आते हैं तो आप गर्मी के मौसम में आइए  इस समय पत्थर बहुत गर्म हो जाते हैं, घूमते समय आपको बहुत पसीना होगा | अपनी सुविधानुसार किसी भी मौसम में आ सकते हैं |

एलोरा केव घूमने के लिए सावधानियां - Tips For Tourist Visit During Ellora Cave in Hindi :

  • एलोरा  केव अच्छे से घूमने के लिए 3 घंटे का समय लग जाता है ,आप पानी की बोतल अपने साथ जरूर ले जाए क्योंकि आपको प्यास लगेगी |
  • अगर आप सावन के मौसम में घूमने जा रहे हैं तो अच्छी क्वालिटी का जूते या स्लीपर पहने क्योंकि बरसात के समय में यहां पर पत्थरों पर फिसलने से बचने के लिए आपको मदद करेगा | 
  • एलोरा केव बंदर बहुत सारे हैं आप यहां थोड़ा सावधानी का ध्यान रखें |

एलोरा केव कैसे पहुंचे हैं - How To Reach  Ellora Caves in Hindi: 

एलोरा केव पहुंचने के लिए सबसे पहले आपको औरंगाबाद पहुंचना होगा | औरंगाबाद में एयरपोर्ट  और रेलवे स्टेशन दोनों हैं | औरंगाबाद रेलवे स्टेशन से 28 किलोमीटर उत्तर की ओर एलोरा स्थित है |

  • राज्य : महाराष्ट्र
  • ज़िला: औरंगाबाद
  • स्थापना: राष्ट्रकूट वंश के शासकों द्वारा

कब जाएँ: अक्तूबर से मार्च

कैसे पहुँचें: हवाई जहाज़, रेल, बस आदि से पहुँचा जा सकता है।

हवाई अड्डा: औरंगाबाद हवाई अड्डा

रेलवे स्टेशन: औरंगाबाद रेलवे स्टेशन

यातायात: सिटी बस, टैक्सीऑटोरिक्शा

क्या देखें: मठ, मंदिर और 34 गुफ़ाएं


एलोरा गुफा से संबंधित विभिन्न प्रकार के प्रश्न -

1. एलोरा की गुफाएं किस राज्य में स्थित है ?.

उत्तर - एलोरा की गुफाएं महाराष्ट्र राज्य में स्थित है |

2. एलोरा की गुफाएं किस धर्म से संबंधित है ?.

उत्तर - एलोरा की गुफाएं जैन धर्म ,बौद्ध धर्म, हिंदू धर्म को समर्पित है |

3. एलोरा में कुल गुफाओं की संख्या कितनी है ?. 

उत्तर -  एलोरा की गुफा में 34 गुफा है | 

4. एलोरा गुफा घूमने के लिए कितना समय लगता है ?.

उत्तर -  एलोरा गुफा को घूमने के लिए लगभग 2 से 3 घंटे का समय लगता है |

5. एलोरा गुफा किस दिन बंद रहता है ?.

उत्तर - एलोरा गुफा सप्ताह के 7 दिन खुला रहता है | 

6. क्या एक दिन में अजंता और एलोरा गुफा घुमा जा सकता है ?.

उत्तर - जी हां 1 दिन में अजंता और एलोरा की गुफा घुमा जा सकता है लेकिन इसके लिए आपको एलोरा सुबह जल्दी जाना होगा तभी आप दोनों गुफा घुम सकते हैं | एलोरा से अजंता की दूरी लगभग 100 किलोमीटर है इस बात का ध्यान रखें |

7. एलोरा की गुफा किसने बनवाई ?.

उत्तर -  राष्ट्रकूट वंश के शासकों द्वारा |

8. एलोरा की गुफाओं के सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन ?.

उत्तर - औरंगाबाद रेलवे स्टेशन |

9.एलोरा की गुफाओं के सबसे नजदीक हवाई अड्डा ?.

उत्तर - औरंगाबाद एयरपोर्ट  |

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई एलोरा गुफाओं की संपूर्ण जानकारी आपके लिए मददगार साबित होगी।

Nature