उदयपुर घूमने की संपूर्ण जानकारी ( Best place to visit in Udaipur in Hindi ) :

मेरे प्रिय पाठक आपका प्रेम पूर्वक नमस्कार हमारे इस नए लेख में इस लेख में हम आपको उदयपुर घूमने की तथा उदयपुर के आसपास पर्यटक स्थलों की संपूर्ण जानकारी देंगे |अतः आपसे अनुरोध है कि हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े| 

उदयपुर घूमने की संपूर्ण जानकारी ( Best place to visit in Udaipur in Hindi ) :

उदयपुर की एक झलक (Tourist place Udaipur in Hindi):

  • भारत के राजस्थान का उदयपुर एक बहुत फेमस और बड़ा शहर है |उदयपुर को झीलों का शहर कहा जाता है उदयपुर चारों ओर से सुंदर अरावली पहाड़ियों से घिरा हुआ है जो इसे एक खूबसूरत पर्यटक स्थल बनाता है|उदयपुर में हनीमून मनाने के लिए कपल बहुत ज्यादा आते हैं क्योंकि यहां की वादियां यहां के सुंदर महल ,झील ,हनीमून जोड़ों के लिए बहुत ही पसंद आता है |उदयपुर दूसरी सबसे बड़ी मानव निर्मित मीठे पानी की झील है और भारत में सबसे अधिक विदेशी बुटीक होटलों में से एक है | 

  • उदयपुर में कई सारे झील हैं जिस वजह से इसे “सिटी ऑफ लेक” भी कहा जाता है तथा इसे “पूरब का वेनिस” भी कहा जाता है | कुछ लोग इसे राजस्थान का कश्मीर भी कहते हैं |महाराणा उदय सिंह द्वितीय ने  वर्ष 1559 में उदयपुर शहर की स्थापना की तथा मेवाड़ की राजधानी उदयपुर बनाया |उदयपुर में भील ,पटेल ,मीणा तथा राजपूत के साथ अन्य कई जातियां रहती है| उदयपुर का प्रारंभिक इतिहास भील राजाओं से जुड़ा है |राजा राजा दोआवा भील उदयपुर के शासक थे |उदयपुर फिल्म शूटिंग के लिए एक पसंदीदा स्थान है| 

उदयपुर का इतिहास (History Of Udaipur in Hindi):

  • उदयपुर  मेवाड़ राज्य की नई राजधानी के रूप में स्थापित किया गया था |यह क्षेत्र 12 वीं सदी के मध्य तक भील के शासन का क्षेत्र रहा |महाराणा उदय सिंह द्वितीय तोपखाने युद्ध की 16 वीं सदी के उपद्रव के बाद में एक अधिक सुरक्षित स्थान पर अपनी राजधानी को स्थानांतरित करने के कुंभलगढ़ में अपने निर्वासन के दौरान फैसला किया | उदयपुर का इतिहास 15वीं शताब्दी का है इसका नाम राणा उदय सिंह द्वितीय के नाम पर ‘उदयपुर’ रखा गया है |जब उदयपुर मेवाड़ राजवंश द्वारा पाया गया था तब यह एक उपजाऊ भूमि थी इसलिए इसे राजा द्वारा नई राजधानी घोषित किया गया था |

उदयपुर के प्रमुख खूबसूरत पर्यटक स्थल - All Tourist Places Udaipur:

मेरे प्रिय पर्यटक उदयपुर में घूमने वाले स्थान बहुत सारे हैं हम उन सभी पर्यटक स्थल में से कुछ महत्वपूर्ण पर्यटक स्थल के बारे में बता रहे हैं जो इस प्रकार हैं-

1. पिछोला झील -Pichola Lake Udaipur in Hindi:

मेरे प्रिय पर्यटक पिछोला झील ,सिटी पैलेस तथा लेक पैलेस तीनों  तीनों पर्यटक स्थल  एक स्थान पर हैं |

  • पिछोला झील उदयपुर की सबसे सुंदर और प्राचीन झील है इस झील की खोज सन 1362 में हुआ था | यह झील मानव निर्मित है ,जब यह झील बना उसके बाद इसका विस्तार महाराणा उदय सिंह द्वितीय ने किया| इस झील में अनेक महल और इमारतें हैं जो कि इस झील के सौंदर्य को बढ़ा देती है| पिछोला झील में आप नाव से घूम सकते हैं | सिटी पैलेस पिचोला झील के किनारे हैं |

2 . सिटी पैलेस  -City Palace Udaipur in Hindi:

  • उदयपुर घूमने आने वाले पर्यटकों का यह सबसे पहला आकर्षण केंद्र सिटी पैलेस है|सिटी पैलेस पिचोला झील के किनारे स्थित है | सिटी पैलेस राजस्थान में सबसे बड़ा शाही परिसर माना जाता है| इस महल का निर्माण 1559 में महाराणा उदय सिंह ने करवाया था | सिटी पैलेस को अच्छे से घूमने के लिए लगभग 3 घंटे समय लगते हैं |यहां पर विदेशी पर्यटक की संख्या हमेशा रहती है | सिटी पैलेस सुबह 9:00 से 5:00 बजे तक खुला रहता है यहां की एंट्री टिकट 300 से ₹400 के बीच है |

3. लेक पैलेस- Taj Lake Palace Udaipur in Hindi:

  • लेक पैलेस पिचोला झील के बीचो बीच जग निवास द्वीप पर स्थित है |लेक पैलेस 4 एकड़ में बनाया गया है सन 1743 में महाराणा जगतसिंह ने इसे एक महल के रूप में बनवायाथा ,लेकिन आज के समय में यह एक 5 स्टार होटल की तरह दिखने लगा है |यह महल उस समय राजा गर्मियों के मौसम में जिलों के बीच में रहकर ठंडक प्रदान करने के लिए बनवाया था | इस महल में कई फिल्मों की शूटिंग भी हो चुकी है| इस महल में 66 कमरे हैं|अगर आपको यहां पर रूम की बुकिंग करनी है तो आप बुकिंग कर सकते हैं यहां की कीमत 1 दिन की लगभग  25000 से शुरुआत है | 

Room book click now 

4. सज्जनगढ़ पैलेस (मानसून पैलेस) - Sajjangarh Palace (Mansoon Palace) Udaipur in Hindi:

  • इस पैलेस को राजवंश के राजा महाराणा सज्जन सिंह 1884 में बरसात के समय बादलों को देखने के लिए बनवाया था इसीलिए इसे लोक मानसून पैलेस के नाम से भी जानते हैं तथा इस किले का नाम सज्जनगढ़ पैलेस महाराणा सज्जन सिंह के नाम पर रखा गया |सज्जनगढ़ पैलेस उदयपुर के पश्चिम में बंसदारा पहाड़ी पर है | इस पैलेस से पिछोला झील, सनसेट तथा उदयपुर शहर का सुंदर नजारा देख सकते हैं |

  • यह उदयपुर शहर की सबसे ऊंचाई पर बना पैलेस है | महाराणा सज्जन सिंह के आकस्मिक मृत्यु के बाद इस पैलेस का निर्माण उनके उत्तराधिकार राजा फतेह सिंह ने पूरा करवाया |सिटी पैलेस से मानसून पैलेस की दूरी लगभग 7 किलोमीटर है 

5. फतेह सागर झील- Fateh Sagar Lake Udaipur in Hindi:

  • फतेहसागर झील 1वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैली हुई उदयपुर की पिछोला झील के उत्तर दिशा में स्थित है |फतेहसागर और पिछोला झील दोनों एक दूसरे झील से जुड़े हुए हैं |इस झील को महाराजा फतेह सिंह ने बनवाया था इसलिए इस झील का नाम फतेह सागर रखा गया |मेरे प्रिय पर्यटक इस झील  में तीन छोटे छोटे द्वीप है जिनमें से एक नेहरू पार्क सबसे बड़ा प्रसिद्ध दीप है |

  • फतेह सागर में आप नाव राइडिंग का आनंद ले सकते हैं| फतेहसागर मानव निर्मित उदयपुर की दूसरी सबसे बड़ी झील है |मेरे प्रिय पर्यटक यहां पर आप जरूर जाइए घूमने के लिए बहुत आपको आनंद आएगा और यहां पर शाम को लाइट की रोशनी में अद्भुत दिखता है यह फतेहसागर | 

6. विंटेज कार संग्रहालय - Vintage Car Museum Udaipur in Hindi:

  • विंटेज और क्लासिक कार संग्रहालय भारत में राजस्थान राज्य के उदयपुर में स्थित है जिसमें कुछ दुर्लभ और पुरानी कारों का संग्रह है | अगर आप कार की  शौकीन हैं तो आपको जरूर जाना चाहिए यहां पर देखने के लिए रॉल्स राय से लेकर अन्य सभी पुरानी मॉडल कार हैं |

Vintage Car Museum Udaipur Entry Fee-

250 Rs Per Person For Adults.  150 Rs Per Person For Children.

Vintage Car Museum Udaipur Time -

All Days Open 9AM -9PM  पता- गुलाब बाग रोड, नियर गार्डन होटल, ओल्ड सिटी ,शक्ति नगर, उदयपुर राजस्थान 313001

7. सहेलियों की बाड़ी - Saheliyon Ki Bari Udaipur in Hindi:

  • सहेलियों की बाड़ी राजस्थान के उदयपुर जिले में स्थित है यह एक लोकप्रिय है गार्डन है|का निर्माण राणा सांगा ने करवाया था | इतिहासकारों के अनुसार कहा जाता है की सहेलियों की बाड़ी 48 महिलाओं का समूह था जिसे उदयपुर की राजकुमारी को दहेज के तौर में दिया गया था इसलिए उनके लिए उद्यान का निर्माण करवाया गया | इस उद्यान में सुंदर सुंदर फूलों के कई किस्म लगाए गए हैं यह उद्यान फतेह सागर लेक के निकट ही स्थित है |

  •  यह सुबह 8:00 से रात के 8:00 बजे तक खुला रहता है |

8. बागोर की हवेली - Bagore Ki Haveli Udaipur in Hindi:

  • बागोर की हवेली पिछोला झील के गंगोरी घाट के दाहिनी ओर स्थित है |इसका निर्माण मेवाड़ के मंत्री अमर चंद बड़वा ने 18वीं शताब्दी में करवाया था |हवेली में लगभग 100 से अधिक कमरे हैं जिसे आधुनिक और पुरानी कला की वस्तुएं संजो कर रखी गई है तथा इसमें कांच का भी कार्य किया हुआ है इसके अलावा इस हवेली में मेवाड़ के राजाओं और महारानीयों की पेंटिंग भी लगी हुई है जो बहुत ही अद्भुत आकर्षण का केंद्र है |

  • बागोर की हवेली में पर्यटकों के लिए शाम को सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है| यह हवेली सुबह 11:00 बजे से रात 8:00 बजे तक पर्यटकों के लिए खुला रहता है |इस हवेली की ऑनलाइन भी टिकट बुकिंग की जाती है कृपया आप लोग यहां अगर आपको जाना है घूमने तो इसकी ऑनलाइन टिकट पहले से ही बुक कर लीजिए क्योंकि बहुत ज्यादा यहां भीड़ होने के कारण ऑफलाइन टिकट मिलना बहुत मुश्किल हो जाता है || 

प्रवेश शुल्क बागोर की हवेली-  भारतीय पर्यटक (वयस्क) के लिए -₹90  विदेशी पर्यटक के लिए -₹150  भारतीय बच्चों(12 वर्ष से कम) के लिए  - ₹45

9. क्रिस्टल गैलरी - Crystal Gallery Udaipur in Hindi:

  • क्रिस्टल गैलरी फतेह प्रकाश पैलेस का एक हिस्सा है इस गैलरी को 1994 में आम जनता के लिए खोला गया था | इस क्रिस्टल गैलरी में पर्यटकों के लिए सुंदर क्रिस्टल के कपड़े फव्वारे  क्रॉकरी, शीशेयुक्त  युक्त मेजपोश ,सोफा सेट ,कालीन बेड और कुर्सियों की तरह के सिंहासन को देख सकते हैं | इन सबके अलावा यहां पर आपको इत्र और शहद की बोतलें मोमबत्ती स्टैंड और कांच के बने पोस्टर भी यहां पर दिखाई देते हैं |

  • अधिक जानकारी के लिए क्रिस्टल गैलरी की वेबसाइट पर जाएं-

10. दूध तलाई म्यूजिकल गार्डन - Doodh Talai Musical Garden Udaipur in Hindi:

  • दूध तलाई झील  पिछोला झील के निकट स्थित है | यहां पर सुंदर फाउंटेन युक्त गार्डन है जहां आप सूर्यास्त को आनंद  लेने के लिए एक शानदार जगह है |इसके अलावा दूध तलाई  बगीचा और करणी माता मंदिर को भी जोड़ता है |यहां पर आप शाम को जाएं तो ज्यादा अच्छा रहेगा |

11. गुलाब बाग़ और चिड़ियाघर - Gulab Garden And Zoo Udaipur in Hindi:

  • गुलाब बाग़ का निर्माण महाराणा फतेह सिंह द्वारा कराया गया था |इस बाग में गुलाब के फूलों की सर्वाधिक मात्रा है इसलिए इसे गुलाब बाग कहा जाता है |यहां एक चिड़िया घर भी है जो भारत के सबसे प्राचीन चिड़िया घरों में से एक है |इस चिड़िया घर में आपको अलग-अलग प्रकार के सुंदरता देखने को मिल सकते हैं | सिटी पैलेस से गुलाब बाग की दूरी 3.6 किलोमीटर है |

12. शिल्प ग्राम - Shilpgram Udaipur in Hindi:

  • शिल्पग्राम उदयपुर में अरावली पहाड़ियों पर स्थित है |यह एक शिल्पकारों  का गांव है ,जहां पर पारंपरिक स्थापत्य शैली से निर्मित कुल 26 झोपड़ियों से घिरा 8 एकड़ भूमि में में फैला हुआ है |यहां पर कई घरों के लिए सजावटी सामान को प्रदर्शित करती हैं इस गांव में आप जाकर सिर्फ शिल्पकारों की कलाकारी और उनकी प्रतिभा को देख सकते हैं |अगर आप कलाकारी के शौकीन हैं तो आपको यहां पर जरूर जाना चाहिए | 

13. भारतीय लोक कला संग्रहालय - Indian Folk Art Museum Udaipur in Hindi:

  • मेरे प्रिय पर्यटक यदि आपको कलाकृतियों में रूचि है और आप उस चीज को जानने की इच्छा रखते हैं तो वह भारतीय लोक कला संग्रहालय आपके लिए बहुत अच्छी जगह है |यहां पर कठपुतली का शो एक प्रमुख आकर्षण केंद्र है जो पर्यटक के लिए दिनभर किया जाता है यहां की संग्रहालय कठपुतली बनाने लेकर अन्य कामों का काम करती है |

14. जयसमंद झील - Jaisamand Lake Udaipur in Hindi:

  • जयसमंद झील यह लगभग 100 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है यह भारत की दूसरी सबसे बड़ी मानव निर्मित झील है | यह झील उदयपुर शहर के सबसे खास पर्यटक स्थल में से एक है जो स्वच्छ और सुंदर होने के साथ ही प्राकृतिक प्रेमियों के लिए स्वर्ग के समान है|इस झील को कुछ लोग ढेबर लेक के नाम से जानते हैं यह उदयपुर से 58 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है |यहां पर घूमने का सबसे अच्छा समय मानसून के समय होता है इस झील का निर्माण उदयपुर के महाराणा ने पिकनिक के लिए करवाया था और इस झील के बीच में एक टापू का भी निर्माण करवाया |

उदयपुर के प्रसिद्ध मंदिर - 

Famous Temple in Udaipur:

1. जगदीश मंदिर – Jagdish Temple Udaipur in Hindi:

  • जगदीश मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित एक भव्य मंदिर है |इस मंदिर की प्रतिमा काले पत्थरों से बनी हुई है |यह मंदिर उदयपुर के सिटी पैलेस परिसर में स्थित है |जगदीश मंदिर की वास्तुकला इंडो आर्यन शैली में बनाया गया है |इसका निर्माण 1651 में महाराणा जगतसिंह द्वारा किया गया था ,जिन्हें 1628 से 1653 की अवधि में उदयपुर पर शासन किया था|

2. करणी माता मंदिर - Karni Mata temple Udaipur in Hindi:

  • श्री मंशापूर्ण कर्णी माता का मंदिर भारतीय हिंदू का एक प्रसिद्ध मंदिर है जोया राजस्थान के उदयपुर में स्थित है या मंदिर मोगरा नामक पहाड़ी पर स्थित है तथा उदयपुर के दूध तलाई लेख के पास स्थित है| मंदिर में करणी माता की पत्थर की मूर्ति स्थापित है  यह मंदिर पहाड़ की ऊंचाई पर बना है इस कारण यहां पर कोई भी वाहन नहीं पहुंच पाते हैं यहां जाने का रास्ता रोपवे है तथा दूसरा पैदल मार्ग है यानी आपको पहाड़ की सीढ़ी चढ़कर मंदिर तक पहुंचना होगा |सिटी पैलेस से इस मंदिर की दूरी 1.5 किलोमीटर है| 

3. एकलिंगजी मंदिर-  Eklingji Temple Udaipur in Hindi:

  • उदयपुर का सबसे सुंदर और माननीय मंदिरों में से एक है |यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है| इस मंदिर में भगवान शिव की चार मुख वाली 50 फीट ऊंची प्रतिमा स्थापित की गई है |यह पर्यटकों को बहुत आकर्षित करती है |उदयपुर में कोई भी राजा लड़ाई में जाने से पहले हमेशा एकलिंगजी मंदिर में आकर पूजा अर्चना अवश्य करते थे | उदयपुर से  यह मंदिर 21 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है | 

उदयपुर में शॉपिंग करने की सबसे अच्छी जगह- 

Best shopping market in Udaipur:

 1. हाथी पोल बाजार उदयपुर -

Hathi Pol Bazar Udaipur in Hindi:

  • हाथीपोल उदयपुर का सबसे बड़ा और मशहूर बाजार है शॉपिंग करने के लिए यहां आपको ब्रांडेड कपड़ों से लेकर लोकल वस्तुओं की खरीदारी करने को मिल जाएगी जिसमें आप सजावट के सामान से लेकर ज्वेलरी तथा घरेलू सामानों को खरीद सकते हैं |

2. बड़ा बाजार उदयपुर - Bada Bazar Udaipur in Hindi:

  • बड़ा बाजार उदयपुर का यह कला और शिल्प कार्यों के लिए प्रसिद्ध है इस बाजार में प्योर लेदर की चीजें के अलावा सुंदर आभूषण तथा रंगीन ताई और कपड़े मिलते हैं यह स्थान पर्यटकों को खरीदारी करने के लिए उपयुक्त है

वाटर पार्क इन उदयपुर-Water Park in Udaipur in Hindi :

  • उदयपुर में अगर आप वाटर पार्क का आनंद लेना चाहते हैं तो आप इन वाटर पार्क में जा सकते हैं यहां पर जाकर आप इनके एंट्री फीस तथा अन्य सुविधाओं के बारे में आप बात कर सकते हैं |

1.जील वाटर पार्क -Jeel Water Park Udaypur:

2.मार्वल वाटर पार्क-Marvel Water Park Udaypur: 

उदयपुर के आसपास की घूमने की जगह-  

Best Tourist place Visit near Udaipur: 

मेरे प्रिय पर्यटक आप उदयपुर के साथ इन सभी जगहों को भी आप घूम सकते हैं | 

1. हल्दीघाटी - Haldighati in Hindi:

  • हल्दीघाटी एक ऐतिहासिक स्थल है जो उदयपुर से 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है हल्दीघाटी महाराणा प्रताप के नेतृत्व में मुगलों और राजपूतों के बीच लड़ाई के लिए प्रसिद्ध है| 

  • महाराणा प्रताप के चेतक घोड़े ने अपनी आखरी सास यहीं पर ली थी ,चेतक की स्मृति में निर्मित स्मारक युद्ध के मैदान से 4 किलोमीटर की दूरी पर है | यह स्मारक सफेद संगमरमर से बना है और वफादार घोड़े के सम्मान और प्रशंसा का प्रतीक है|हल्दीघाटी में जो दर्रा है यह महाराणा प्रताप और अकबर की सेना के बीच हुए युद्ध के लिए प्रसिद्ध है | 
  • मेरे प्रिय पर्यटक ‘हल्दीघाटी’ का नाम इसलिए पड़ा क्योंकि यहां की मिट्टी हल्दी जैसा पीली है |

2. माउंट आबू-Mount Abu in Hindi:

  • उदयपुर से माउंटआबू की दूरी लगभग 163 किलोमीटर है |हल्दीघाटी से माउंट आबू की दूरी 156 किलोमीटर है |माउंट आबू  राजस्थान का इकलौता हिल स्टेशन है जो यह अपने शांत वातावरण और हरे भरे माहौल की वजह से यह राजस्थान का सबसे लोकप्रिय पर्यटक स्थल है |राजस्थान के अन्य हिस्सों की तरह व गर्म नहीं है |माउंटआबू समुद्र तल से 1200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है 

3. चितौड़गढ़ - Chittorgarh in Hindi:

  • उदयपुर से चित्तौड़गढ़ की दूरी लगभग 111 किलोमीटर है|चित्तौड़गढ़ भारत के राजस्थान राज्य का एक प्रमुख नगर है जो यह बैराज नदी के किनारे पर स्थित हैं चित्तौड़गढ़ का किला बहुत ही प्रसिद्ध है पूरे भारत में इस किले का निर्माण सातवीं शताब्दी में मौर्य शासकों ने किया था यह किला लगभग 700 एकड़ जमीन में फैला हुआ है |चित्तौड़गढ़ मेवाड़ की प्राचीन राजधानी थी भारत के महान वीर महाराणा प्रताप सिंह यही के राजा थे इसे महाराणा प्रताप का गढ़ और जोहर का गण भी कहा जाता है यहां पर कई रानियों ने जौहर किया है | 

उदयपुर का प्रसिद्ध भोजन और लोकल फूड-

Famous local food in Udaipur Hindi :

  • मेरे प्रिय पर्यटक उदयपुर की यात्रा बिना खाने के बिना तो पूरी हो नहीं सकती उदयपुर एक ऐसा शहर है जहां कई प्रकार के भोजन परोसे जाते हैं यहां के कुछ प्रमुख खानपान इस प्रकार हैं दाल बाटी चूरमा, राजस्थानी थाली ,गट्टे की सब्जी ,कचोरी (जिन्हें शुद्ध देसी घी में बनाया जाता है )और नारंगी जलेबी इसके अलावा यहां पर स्ट्रीट फूड बहुत सारे मिल जाएंगे | 

 उदयपुर के कुछ फेमस रेस्टोरेंट-

(Udaipur famous Restaurant): 

  • नटराज होटल में दाल बाटी चूरमा और गट्टे की सब्जी की  स्वाद का एक बार आनंद जरूर लीजिए|
  • पता: 22-24, City Station Rd, near Railway Station, Jawahar Nagar, Ganesh Ghati, Udaipur, Rajasthan 313001
  • शिव शक्ति चार्ट विभिन्न प्रकार के कचोरी चाट के लिए प्रसिद्ध है जो भी  बना कर देते हैं इस शहर की विशेषताओं में से एक है |
  • नीलम रेस्तरां एक राजस्थानी थाली प्रदान करता है, जो मीठी, चटपटी और मसालेदार, घर पर बनने वाली जायके से भरी होती है।

उदयपुर में घूमने का सबसे अच्छा समय-

Best time to visit Udaipur in Hindi:

  • उदयपुर में सबसे अच्छा मौसम घूमने का अक्टूबर से मार्च तक का होता है इस समय यहां पर बहुत ही सुहावना मौसम होगा |उदयपुर में मार्च में हर साल मेवाड़ उत्सव मनाया जाता है | मार्च के बाद यहां पर जाना उचित समय नहीं होगा क्योंकि यहां भीषण गर्मी पड़ने शुरू हो जाती है |हनीमून मनाने वालों के लिए जाड़े का समय सबसे अच्छा है उदयपुर के लिए|

उदयपुर कैसे पहुंचे-How to reach Udaipur in Hindi:

  • उदयपुर जाने के लिए बस ट्रेन तथा फ्लाइट तीनों आसानी से मिल जाते हैंआप अपनी सुविधा अनुसार इनमें से चॉइस कर सकते हैं |

फ्लाइट से उदयपुर कैसे पहुंचे-

How to reach Udaipur by flight in Hindi : 

  • उदयपुर का हवाई अड्डा महाराणा प्रताप, उदयपुर शहर से 24 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यहां से दिल्ली ,मुंबई और जयपुर तथा अन्य शहरों के लिए यहां से निर्धारित उड़ानें भरी जाती हैं जिससे कि आपकी यात्रा काफी सुविधाजनक बनती है |जब आप एयरपोर्ट से बाहर आएंगे मेन रोड पर यहां से शहर जाने के लिए रेगुलर बस भी चलती हैं या फिर कोई भी कैब बुक करके उदयपुर शहर जा सकते हैं | बस से जाएंगे तो बस का किराया 25 से ₹30 है |

सड़क मार्ग से उदयपुर कैसे पहुंचे-

How To Reach Udaipur By Road in Hindi:

  • उदयपुर में सड़क मार्ग की कनेक्टिविटी अच्छी बनी हुई है आप यहां पर अपने कार या फिर बस से आसानी से पहुंच सकते हैं |

 ट्रेन से उदयपुर कैसे पहुंचे- 

How To Reach Udaipur By Train in Hindi:

  • उदयपुर में दो रेलवे स्टेशन है एक उदयपुर सिटी रेलवे स्टेशन और दूसरा राणा प्रताप नगर रेलवे स्टेशन |इन रेलवे स्टेशन से अन्य शहरों के लिए जैसे मुंबई दिल्ली जयपुर कोटा आगरा वाराणसी आदि स्थानों के लिए नियमित ट्रेन चलती हैं |

यात्रियों के लिए टिप्स- Tips for tourist:  

  • मेरे प्रिय पर्यटक गोवा की तरह उदयपुर में भी रेंट पर बाइक और स्कूटी मिलती हैं उसके लिए आपके पास लाइसेंस होना जरूरी है |
  • सिटी पैलेस घूमने के लिए अच्छी तरह लगभग 3 से 4 घंटे लगेंगे क्योंकि इसके अंदर बहुत कुछ है जिससे आपको देखने में समय लगेगा |
  • करणी माता का मंदिर पहाड़ की चोटी पर है अगर आप यहां रोपवे से जाते हैं तो 2 घंटे में आप घूम लेंगे अगर आप पैदल मार्ग से पहाड़ी चढ़कर जाएंगे तो 3 घंटे लगेंगे |