सिद्धार्थ गार्डन और जू औरंगाबाद - Siddharth Garden and Zoo Aurangabad in Hindi

मेरे प्रिय पाठक आपका हमारे इस नए लेख में स्वागत है , इस लेख के माध्यम से मैं आपको औरंगाबाद  का सिद्धार्थ गार्डन और चिड़ियाघर जो यह दोनों  एक ही है( अर्थात सिद्धार्थ गार्डन में ही चिड़ियाघर है)  घूमने की जानकारी दे रहे हैं |आपसे अनुरोध है कि संपूर्ण जानकारी के लिए  हमारे  इस लेख को अंतिम तक पढ़ें |

सिद्धार्थ गार्डन और जू औरंगाबाद - Siddharth Garden and Zoo Aurangabad in Hindi
Nature

औरंगाबाद का सिद्धार्थ गार्डन और चिड़ियाघर - Aurangabad Zoo In Hindi :

  • औरंगाबाद का सिद्धार्थ गार्डन एंड जू औरंगाबाद रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। मूल रूप से यह तीन भागों में बटा हुआ है। 
  • गार्डन का पहला भाग एक चिड़ियाघर है जिसमें वाइट टाइगर, चीता, लोमड़ी, मगरमच्छ, सांप इत्यादि प्रजाति के प्राणी पाए जाते हैं। 
  • दूसरा भाग एक बगीचा है जहां पर बच्चों के खेलने की जगह, टहलने की जगह इत्यादि मौजूद है। पर्यटक यहां पर अपनी सुहानी शाम बता सकते हैं। 
  • गार्डन का तीसरा भाग है एक एक्यूरियम। यह मछली घर औरंगाबाद का सबसे सुंदर मछली घर है। सिद्धार्थ गार्डन औरंगाबाद के समर्थनगर में स्थित है। यह बेहद विशाल क्षेत्र में फैला हुआ गार्डन है।

सिद्धार्थ गार्डन में करने वाली गतिविधियां - Activities to do at Siddharth Garden in Hindi :

  • सिद्धार्थ गार्डन एक ऐसा गार्डन है जहां पर आप अलग-अलग तरह की गतिविधियां कर सकते हैं। बहुत सारे लोग यहां पर अपनी गर्लफ्रेंड बॉयफ्रेंड से मिलने ही आते हैं और कुछ लोग फैमिली के साथ इंजॉय भी करने आते हैं | इसके अलावा सुबह सुबह लोग यहाँ जॉगिंग भी करने आते हैं। 
  • यदि आपको प्रकृति से बेहद प्रेम है तो आप इस पर्यटक स्थल में जरूर आएं। 
  • साथ ही यह गार्डन फोटोग्राफी करने के लिए भी उपयुक्त है। कई पर्यटक यहां पर नेचर फोटोग्राफी करने आते हैं।
  • छोटे बच्चों के खेलने के लिए भी यहाँ काफी उपयुक्त स्पेस मौजूद है।

    इसे भी पढ़े - पनचक्की औरंगाबाद महाराष्ट्र 

औरंगाबाद का सिद्धार्थ गार्डन चिड़ियाघर- Aurangabad Zoo At Siddharth Garden in Hindi : 

  • सिद्धार्थ गार्डन का चिड़ियाघर एक आकर्षक स्थल है। इसमें कई तरह की प्रजातियां पाई जाती है।
  • इस चिड़ियाघर में मौजूद हैं- शेर, चीता, बाघ, लोमड़ी, सिवेट कैट, मगरमच्छ, हिरण, हाइना इत्यादि। 
  • इसके अलावा इस ज़ू में एक स्नेक हाउस भी मौजूद है जिसमें सांपों की कई तरह की प्रजातियां पाई जाती हैं। 
  • सिद्धार्थ गार्डन के चिड़ियाघर के अलावा यहां पर एक मछली घर भी मौजूद है जिसमें कई प्रकार की मछलियां मिल जाएंगी।

सिद्धार्थ गार्डन के अन्य आकर्षक स्थल - Attractive Sites at Siddharth in Hindi :

  • सिद्धार्थ गार्डन में चिड़ियाघर और मछली घर के अलावा कुछ अन्य आकर्षक स्थल भी हैं जो यहां की शोभा को और बढ़ा देते हैं। उन आकर्षक स्थलों में है यहां का म्यूजिकल फाउंटेन और स्टैचू आफ बुद्ध शामिल हैं। 
  • इन दोनों की संरचना अद्भुत है अतः प्रकृति के साथ साथ यह पर्यटक स्थल अपनी संरचना के स्तर पर भी बहुत सुंदर है।

सिद्धार्थ गार्डन और ज़ू जाने का सबसे अच्छा समय - Best Time to Visit Siddharth Garden and Zoo in Hindi : 

  • दोस्तों अगर आप किसी अन्य शहर से औरंगाबाद घूमने आए हैं तो यहां कभी भी जा सकते हैं बस इतना जान लीजिए की सिद्धार्थ गार्डन अच्छे से घूमने में कम से कम 2 घंटे का समय लगेगा | 
  • शाम के समय यहां पर अधिकतर पर्यटक आते हैं क्योंकि मौसम सुहावना होता है।

  इसे भी पढ़े - सोनेरी महल घूमने की जानकारी

सिद्धार्थ गार्डन और ज़ू के बारे में सामान्य जानकारी - Common Information About Siddharth Garden and Zoo in Hindi : 

  • सिद्धार्थ गार्डन घूमने से पहले पर्यटकों को इस के संदर्भ में सामान्य जानकारी होनी चाहिए। पर्यटकों को यहां अधिकतर 1 से 2 घंटे का समय ही लगेगा। 
  • यहां पर प्रवेश शुल्क लगभग 20₹ .
  • यह गार्डन प्रातः 9:00 बजे से लेकर शाम 7:00 बजे तक खुला रहता है। हर सप्ताह के मंगलवार को यहां गार्डन बंद रहता है। अतः पर्यटकों से निवेदन है कि वे समय का ध्यान रखते हुए यहां पर जाएं। 
  • यह गार्डन औरंगाबाद रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर है तथा बीवी का मकबरा से यह 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

सिद्धार्थ गार्डन के आसपास पर्यटक स्थल - Tourist Places Near Siddharth Garden in Hindi :

  • सिद्धार्थ गार्डन के आसपास भी कुछ पर्यटक स्थल हैं जैसे ग्रीनेश्वर मंदिर, अजंता की गुफाएं, औरंगाबाद की गुफाएं इत्यादि। पर्यटक यहां पर जाकर भी अपना समय बिता सकते हैं।

सिद्धार्थ गार्डन कैसे पहुंचे - How to Reach Siddharth Garden Aurangabad in Hindi : 

  • सिद्धार्थ गार्डन पहुंचने का एकदम सीधा सरल रास्ता है। औरंगाबाद रेलवे स्टेशन से पर्यटकों को कैब या टैक्सी की सुविधा यहां के लिए उपलब्ध हो जाएगी। 3 किलोमीटर के फासले को तय कर वे यहां पर पहुंच सकते हैं।

इसे भी पढ़े - बीवी के मकबरे का इतिहास और रोचक जानकारियां 

इसे भी पढ़े - औरंगाबाद केव घूमने की जानकारी

Nature