जायकवाडी बाँध औरंगाबाद - Jayakwadi Dam Aurangabad in Hindi

सभी पाठकों को हमारा नमस्कार। आज हम अपने इस लेख के जरिये आपको औरंगाबाद में स्थित सबसे बड़े बाँध जयकवाड़ी बाँध की सैर कराएँगे , साथ ही उसकी संपूर्ण जानकारी भी आपके साथ साँझा करेंगे। इस विशाल बाँध की सैर और उसकी संपूर्ण जानकारी के लिए लेख को अंत तक ज़रूर पढ़ियेगा।

जायकवाडी बाँध औरंगाबाद  - Jayakwadi Dam Aurangabad in Hindi
Nature

जायकवाडी बाँध औरंगाबाद - Jayakwadi Dam Aurangabad :   

  • एशिया के सबसे बड़े मिट्टी के बाँधों में से एक जायकवाडी बाँध महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद शहर में स्थित है। यह बाँध औरंगाबाद शहर से लगभग 52 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। यह बाँध लगभग 9998 मी. लम्बा और 41.38 मी. ऊँचा है जो नाथ सागर जलाशय का निर्माण करता है।
  • इस अद्भुत बाँध को देखकर आप चौंक सकते हैं क्योंकि वाकई ये इतना विशाल है। इसलिए इस स्थान पर पर्यटकों का आना-जाना भारी मात्रा में लगा रहता है। 

औरंगाबाद के जायकवाडी बाँध का इतिहास - Jayakwadi Dam history in Hindi :   

  • बीड जिले में जायकवाडी गाँव के पास गोदावरी नदी के पार बाँध बनाने का विचार सबसे पहले हैदराबाद सरकार के राज्यकाल दौरान लिया गया था। लेकिन राज्य के विभाजन के बाद इस विचार को स्थगित कर दिया गया और पैंथर में 100 कि.मी. मिट्टी से ऊपर की और लम्बे समय तक नहरें बनाई गईं।
  • लेकिन फिर भी सूखे की समस्या आस-पास के इलाकों में बनी रही। 1965 में लाल बहादुर शास्त्री द्वारा इसकी नींव रखी गई और इस उद्देश्य को पूरा होने में लगभग एक दशक का समय लग गया। बाँध 1976 में पूर्णतः बनकर तैयार हुआ।

औरंगाबाद के जायकवाडी बाँध की विशेषता - Features of Jayakwadi Dam Aurangabad in Hindi :   

  • 41.38 मी. ऊँचाई के साथ जायकवाडी बाँध 9,998 मी. लम्बा है, जिस कारण यह एशिया का सबसे बड़ा बाँध है।
  • इसका कुल जलग्रहण क्षेत्रफल 21,750 वर्ग कि.मी. है।
  • इस बाँध की कुल भंडारण क्षमता लगभग 2,909 एम.सी.एम (मिलियन क्यूब मीटर) है।  
  • इस बाँध में कुल 27 द्वार हैं और 350 वर्ग कि.मी. चौड़े जलाशय को ‘नाथ जलाशय’ के नाम से जाना जाता है।
  • यह नाथ जलाशय 55 कि.मी. लम्बा और 27 कि.मी. चौड़ा है जिस कारण इस बाँध को कुछ लोग नाथ बाँध के नाम से भी जानते हैं।

वर्तमान समय में  औरंगाबाद का जायकवाडी बाँध - Today’s Jayakwadi Dam Aurangabad in Hindi : 

  • जायकवाडी बाँध मराठावाड़ा क्षेत्र की जिन आवश्यक सुविधाओं की पूर्ति के लिए बनाया गया था आज भी वह उन उद्देश्यों की पूर्ति कर रहा है। न केवल औरंगाबाद बल्कि अहमदनगर, बीड, जालना, परभणी क्षेत्रों के सूखाग्रस्त इलाकों में सिंचाई के लिए पानी प्रदान करता है।
  • इसके अलावा पीने के पानी, घरेलू उपयोग, औद्योगिक उपयोग, और बिजली के उत्पादन के लिए भी ये बाँध सुविधाएँ प्रदान करता है। 

औरंगाबाद के जायकवाडी बाँध के पास घूमने वाले स्थान - Best Places to Near Jayakwadi Dam Aurangabad in Hindi : 

  • औरंगाबाद के जायकवाडी बाँध के पास जायकवाडी पक्षी अभ्यारण्य बनाया गया है जहाँ आप राजहंस, पिंटेल, चैती जैसे कई पक्षियों और जीव-जंतुओं को  देख सकते हैं ।
  • जायकवाडी बाँध के पास ज्ञानेश्वर उद्यान है जिसे राज्य का सबसे बड़ा उद्यान कहा जाता है। कहा जाता है कि यहाँ पर अपने समय की एक व्हेल है जो नाथ जलाशय के किनारे स्थित है।
  • साथ ही यह गार्डन अपनी सुन्दरता के कारण बहुत प्रसिद्ध है। इसके आकर्षक फूल, लॉन, और संगीतमय फव्वारे आपको मैसूर के प्रसिद्ध वृन्दावन गार्डन की याद दिला देंगे। 
  • इसके अलावा यहाँ एक स्वीमिंग पूल भी है, जहाँ आप नौका विहार और स्वीमिंग का आनंद उठा सकते हैं। साथ ही यह स्थान बच्चों और बड़े सभी आगंतुकों के लिए खुला है।
  • जायकवाडी बाँध की यात्रा करना न केवल को प्रकृति की ओर आकर्षित करेगा बल्कि यहाँ के अन्य स्थानों को देखकर आपका मन रोमांचित हो उठेगा। इस अद्भुत और अनोखे बाँध को देखना सच एक अलग अनुभव होगा क्योंकि यूँही तो नहीं ये एशिया का सबसे बड़ा बाँध है। साथ ही सबसे रोमांचक ये है कि आप यहाँ न केवल बाँध को देखते हैं बल्कि अपने देश की प्रगति को भी देख सकते हैं और अभ्यारण्य और ज्ञानेश्वर उद्यान की सैर भी कर सकते हैं। 

प्रश्न : जायकवाड़ी परियोजना किस राज्य में है

उत्तर : महाराष्ट्र

Nature