Bibi ka Maqbara Aurangabad

हमारे प्रिय पाठक आपका प्रेम पूर्वक नमस्कार हमारे इस नए लेख में | इस लेख में मिनी ताजमहल का संपूर्ण वर्णन करेंगे जिसको हम लोग “बीवी का मकबरा” के नाम से जानते हैं| बीवी का मकबरा औरंगाबाद में स्थित है | 

Bibi ka Maqbara Aurangabad

महाराष्ट्र का मिनी ताजमहल - बीवी का मकबरा औरंगाबाद  ( Bibi ka makbra Aurangabad )

बीवी के मकबरे का इतिहास और रोचक जानकारियां ...

हमारे प्रिय पाठक आपका प्रेम पूर्वक नमस्कार हमारे इस नए लेख में | इस लेख में मिनी ताजमहल का संपूर्ण वर्णन करेंगे जिसको हम लोग “बीवी का मकबरा” के नाम से जानते हैं| बीवी का मकबरा औरंगाबाद में स्थित है | 

बीवी का मकबरा (Bibi Ka Maqbara in Hindi):

  • बीवी का मकबरा महाराष्ट्र के औरंगाबाद में स्थित है | इसे भारत का दूसरा ताजमहल कहा जाता है | शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज के याद में ताजमहल बनवाया | यह मकबरा औरंगजेब की पहली पत्नी  “राबिया-उद-दौरानी”  उर्फ 'दिलरास बानो बेगम' का सुंदर मकबरा है | इस मकबरे का पूरा निर्माण औरंगजेब का पुत्र आजमशाह ने1651 से1661के दौरान अपनी मां की स्मृति में बनवाया था | इस मकबरा को बनवाने का प्रेरणा आगरा के ताजमहल से मिला |बीवी का मकबरा औरंगाबाद रेलवे स्टेशन से लगभग 5.5 किलोमीटर की दूरी पर है |कुछ लोग इस  मकबरे को गरीबों का ताजमहल भी कहते हैं |यह औरंगाबाद के प्रमुख पर्यटक स्थलों में से एक है | बीबी के मकबरा को ”दक्कन के ताज” भी कहा जाता है|

  • औरंगजेब राबिया-उद-दौरानी की पहली पत्नी तथा सबसे प्रिय थी | औरंगजेब के कुल 5 संतान थे ,जिसमें मोहम्मद आजमशाह का अपनी मां से अत्यधिक लगाव था इन्होंने ही अपने दादा शाहजहां से प्रेरित होकर अपने मां के लिए ताजमहल का कॉपी बनवाने की इच्छा रखी लेकिन उस तरह से अच्छे से बन नहीं पाया |

        बीबी का मकबरा के बारे में और भी विस्तृत जानकारी इस प्रकार है-

1. बीवी का मक़बरा किसने बनवाया था (who built by Bibi Ka Maqbara):

  • औरंगजेब का पुत्र आजम शाह ने अपनी मां की स्मृति में 1651 से1661 के दौरान अपनी मां की स्मृति में करवाया था|

2. बीबी का मकबरा बनाने वाले कारीगर का नाम (Name of the Artisan who Built the Bibi Ka Maqbara):

  • बीबी का मकबरा बनाने वाले कलाकार का नाम अत-उल्लाह था | यह ताजमहल बनाने वाले कलाकार उस्ताद अहमद लाहौरी का बेटा था |

3. बीबी का मकबरा’ के निर्माण में हुआ खर्च (Cost Of Construction Of BIbi Ka Maqbara):

  • बीवी का मकबरा का निर्माण कराने में लागत लगभग ₹7लाख आई थी जब की  ताजमहल का लगभग 3.2 करोड रुपए आया था |बीवी के मकबरा का बनवाने का रकम बहुत ही कम है इसलिए लोग इसे गरीबों का ताजमहल भी करते हैं|

  • कुछ इतिहासकारों का अलग-अलग मान्यता है कि इसमें कुशल मजदूर की वजह से ताजमहल जैसा बिल्कुल आकृति नहीं बन पाया कुछ लोगों का कहना है कि इसमें औरंगजेब का उतना रुचि नहीं था कुछ लोग बोलते हैं कि औरंगजेब नहीं चाहते थे कि राजकोष का खजाना खत्म हो अलग-अलग लोग तर्क देते हैं|

  • बीबी के मकबरे का गुंबद सिर्फ संगमरमर से बनवाया गया है, जबकि इसका बाकी संरचना प्लास्टर से तैयार किया गया है जो देखने में लगता है कि संगमरमर है |

4. बीवी का मक़बरा के बारे मे रोचक तथ्य (Real Facts Of Bibi Ka Maqbara in Hindi ) 



  • बीबी के मकबरे का निर्माण  जिस  मार्बल से किया गया है, उसे पिंक सिटी जयपुर से मंगवाया गया था |

  • औरंगजेब के बेटे आजमशाह द्वारा निर्मित यह मकबरा मुगल स्थापत्य शैली के मुताबिक डिजाइन किया गया है  यह मकबरा अकबर और शाहजहां काल के शाही मुगल वास्तु शैली से साधारण वास्तु शैली में आए बदलाव को भी प्रदर्शित करता है |

  • ताजमहल के नक्शे कदम पर चलते हुए  इस बीबी के मकबरे  के चारों कोनों पर चार मीनार  खड़े हैं मीनार की ऊंचाई करीब करीब 275 मीटर है | 

  • देश में दूसरे ताजमहल यानी बीवी का मकबरा के नाम से विख्यात इसी में औरंगजेब की पहली पत्नी  दिलरास  बानो बेगम का कब्र है | 

  • आगरा की ताजमहल की तरह बीबी का मकबरा वर्गाकार चबूतरे पर बना हुआ है |  मकबरे का मुख्य द्वार लकड़ी का बना हुआ है इसमें तीन ओर से सीढ़ियों द्वारा पहुंचा जा सकता है |

  • मकबरे के पश्चिम में एक मस्जिद बनाई गई है जो शायद में बनाई गई है इस मस्जिद में झगड़ों के कारण नमाज अदा नहीं किया जाता | 

5. बीवी का मक़बरा का इतिहास (Bibi Ka Maqbara History in Hindi ):

  • दिलरास बानो बेगमका जन्म ईरान के सफ़वी राजवंश में हुआ था |इन्होंने 8 मई सन 1637 को राजकुमार मुगल औरंगजेब से आगरा में विवाह कर लिया दिलरास बानो बेगम औरंगजेब की पहली पत्नी थी | दिलरास ने 5 बच्चों को जन्म दिया|

  • अपने पांचवें बेटे मोहम्मद अकबर को जन्म देने के बाद दिलराज बानो बेगम का प्रसव  में होने वाली समस्या के कारण बुखार से पीड़ित हो गई जिससे 8 अक्टूबर सन 1657 को उनकी मृत्यु हो गई |इसके बाद औरंगजेब बहुत दुखी हो गया | दिलरास बानो बेगम को मृत्यु के बाद इसी मकबरे में दफनाया गया |



  • औरंगजेब की पत्नी “राबिया उद दौरानी”की  मौत के बाद मोहम्मद आजम ने अपने दादा शाहजहां के नक्शे कदम पर चलते हुए अपने चहेती मां के लिए स्मृति के रूप में मकबरा बनवाने का फैसला लिया |ऐसा चाहते थे कि जैसा ताजमहल है उसी आकृति का अपने मां के लिए मकबरे का निर्माण करवाएं उन्होंने पूरी कोशिश की पर वैसा बन नहीं पाया|इस मकबरे को “बीवी के मकबरा” के नाम से जाना जाता है |

Bibi Ka Maqbara ticket price Rs 25  for indian and  for foreigner Rs 300 and Bibi Ka Maqbara timings is all days of the week between 8 in the morning till 8 in the evening

Tajmahal and Bibi ka maqbara looks like same


6. बीवी का मक़बरा के आसपास घूमने का पर्यटक स्थल (Best place near Bibi Ka Maqbara in Hindi):

बीबी के मकबरे के पास कई सारे पर्यटक स्थल हैं जहां आप मनोरंजन कर सकते हैं जो इस प्रकार हैं-

1.औरंगाबाद की गुफाएं.

2.सिद्धार्थ गार्डन.

3.अजंता एलोरा की गुफाएं.

4.पनचक्की (वाटर मिल).

5.दौलताबाद किला.

6.मुग़ल एम्परर औरंगज़ेब का मकबरा.

7.प्रसिद्ध धार्मिक स्थल घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर.

8.सोनेरी महल औरंगाबाद.

बारबेक्यू नेशन( Barbeque Nation):

  • इन सब जगह घूमने के बाद अगर आपके पास समय है तो आप औरंगाबाद के प्रोजोन मॉल में भी जा सकते हैं |वहां पर शॉपिंग कीजिए तथा यहां बारबेक्यू नेशन है इसका भी आनंद लीजिए | नॉनवेज खाने का अगर शौक रखते हैं तो आप बारबेक्यू  नेशन में जरूर जाइए | यहां पर अनलिमिटेड खाने को मिलता है |यहां पर अगर आप नॉनवेज सेलेक्ट करते हैं तो आपको वेज और नॉनवेज दोनों मिलेगा खाने को अगर आप सिर्फ वेज चॉइस करते हैं तो आपको  वेज मिलेगा और सब कुछ  ट्राई करें बस आप एक चीज का ध्यान रखना कुछ चीजों का यहां पर अलग से पैसा देना होता है अगर आप कंफ्यूज हो रहे होंगे तो वेटर से आप पूछ लेना |पहले आप स्टार्टर लीजिए उसके बाद मेन कोर्स में जो आपको लेना है वह खाइए सभी स्वीट को ट्राई कीजिए मतलब सब कुछ खा सकते हैं वहां पर आप |

बीवी का मक़बरा कैसे पहुंचे(How To Reach Bibi Ka Maqbara in Hindi ):

  • औरंगाबाद भारत में सबसे लोकप्रिय पर्यटक स्थलों में से एक है यहां पर विदेशों से अजंता एलोरा की गुफाएं बीवी का मकबरा देखने के लिए अधिक संख्या में पर्यटक आते हैं इस वजह से सड़क मार्ग, रेल मार्ग और फ्लाइट द्वारा अन्य शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है मेरे प्रिय पाठक आप दिल्ली कोलकाता हैदराबाद मुंबई प्रमुख शहरों से यात्रा बड़ी आसानी से कर सकते हैं |अगर आप औरंगाबाद रेलवे स्टेशन पर हैं तो वहां से कोई भी ऑटो या कैब बुक करके बीवी का मकबरा आप पहुंच सकते हैं | 



  • अगर आप सीधे औरंगाबाद आ रहे हैं तो औरंगाबाद के पर्यटक स्थल दर्शन करने के बाद आप शिर्डी भी जा सकते हैं तथा सनी सिगनापुर |

.1. हवाई यात्रा द्वारा बीवी का मक़बरा  तक कैसे पहुंचे ( How To Reach Bibi Ka Maqbara  By Flights in Hindi ):

  • औरंगाबाद एयरपोर्ट से प्रतिदिन दिल्ली ,मुंबई ,हैदराबाद तथा अन्य शहरों के लिए कनेक्टिंग फ्लाइट हैं|

2. ट्रेन द्वारा बीवी का मक़बरातक कैसे पहुंचे(How To Reach Bibi Ka Maqbara By Train in Hindi ):

  • औरंगाबाद रेलवे स्टेशन की कनेक्टिविटी अगर आपके रेलवे स्टेशन से नहीं है तो आप औरंगाबाद के नजदीक मनमाड रेलवे स्टेशन के लिए आप अपने यहां से ट्रेन देख सकते हैं मनमाड से औरंगाबाद के लिए प्रतिदिन ट्रेन है यहां से मनमाड लगभग 3 घंटे का रास्ता है|दूसरा तरीका यह है कि आप सीधे मुंबई के लिए ट्रेन देख लीजिए मुंबई से आप औरंगाबाद आ सकते हैं | 

3. सड़क से बीवी का मक़बरातक कैसे पहुंचे( How To Reach Bibi Ka Maqbara By Road in Hindi ):

  • जो भी पर्यटक यहां सड़क मार्ग से आना चाहते हैं या फिर अपने गाड़ियों द्वारा आना चाहते हैं तो हम बता दें कि औरंगाबाद डायरेक्ट नागपुर , मुंबई ,पुणे तथा गुजरात और भोपालअन्य शहरों से जुड़ा हुआ है| इस मार्ग पर स्लीपर ए सी  और नॉन एसी बस चलती हैं |