जोधपुर में शीर्ष 12 पर्यटक आकर्षण केंद् - Best Tourist Places in Jodhpur in Hindi

मेरे प्रिय पाठक आपका प्रेम पूर्वक नमस्कार हमारे इस नए लेख में हम जोधपुर के संपूर्ण पर्यटक स्थल घूमने की जानकारी देंगे अतः आपसे अनुरोध है कि हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ें |

जोधपुर में शीर्ष 12 पर्यटक आकर्षण केंद् - Best Tourist Places in Jodhpur in Hindi
जोधपुर में शीर्ष 12 पर्यटक आकर्षण केंद् - Best Tourist Places in Jodhpur in Hindi
जोधपुर में शीर्ष 12 पर्यटक आकर्षण केंद् - Best Tourist Places in Jodhpur in Hindi
जोधपुर में शीर्ष 12 पर्यटक आकर्षण केंद् - Best Tourist Places in Jodhpur in Hindi
Nature

जोधपुर में घूमने की जगह - Jodhpur Place in Hindi :

जोधपुर, राजस्थान के दूसरा सबसे बड़ा शहर है। अपने ढेर सारे सुंदर, आलिशान महलों, दुर्गों, गार्डन, गढ़ों और नीले रंग से रंगे मकानों के कारण नीली नगरी या ब्लू सिटी कहलाया जाने वाला यह शहर पर्यटन का मुख्य केंद्र रहा है। यदि आप भी इस शहर की यात्रा पर निकल रहे हैं या ये लेख पढ़ कर आपका मन इस शहर को घूमने का कर जाए तो हमारा ये लेख आपके बहुत काम आने वाला है। तो लेख को अंत तक ज़रूर पढ़े क्योंकि हम यहाँ जोधपुर के इन मुख्य स्थलों की जानकारी आपके साथ साझा कर रहे हैं जहाँ आपको ज़रूर ही जाना चाहिए 

जोधपुर का इतिहास - Jodhpur history in hindi :     

  • राजा जोधा ने 1459 ई. में आधुनिक नगर के रूप में जोधपुर की स्थापना की थी। सूर्य नगरी के नाम से प्रसिद्ध जोधपुर शहर की पहचान यहां के महल, दुर्गों और पुराने घरों में लगे छितर के पत्थरों से होती है। यहां स्थित मेहरानगढ़ के दुर्ग को घेरे हुए हजारों नीले मकानों के कारण इसे "नीली नगरी" के नाम से भी जाना जाता है।
  • सोलहवीं शताब्दी के मुख्य व्यापार केन्द्र और किलों का शहर जोधपुर अब राजस्थान का दूसरा विशालतम शहर है।का दूसरा विशालतम शहर है। पूरे शहर में बिखरे वैभवशाली महल, मन्दिर और किले जहाँ एक ओर ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और प्राचीन धरोहर का प्रतीक हैं वहीं दूसरी ओर लोक नृत्य, हस्तकला, वास्तुशिल्प, रंग-बिरंगी चीजों और स्वादिष्ट व्यंजन के कारण यह शहर अतुलनीय आभा लिए हुए है।

जोधपुर के मुख्य पर्यटक स्थल - Famous Tourist Place in Jodhpur in Hindi :

1. सबसे बड़े किले में से एक मेहरानगढ़ का किला - One of the largest Fort in country, Mehrangarh Fort in Hindi-

  • जोधपुर की शान का प्रतीक मेहरानगढ़ किला अपने आकर्षक बलुआ पत्थर से बने होने के कारण यहाँ के कारीगरों की शानदार शिल्पकारी का प्रदर्शन करता है। 68 फीट चौड़े और 117 फीट ऊँचे इस आलिशान किले की नींव राजा राव जोधा ने 1459 में की थी।
  • इस किले में 7 दरवाजे हैं और उनमें जय पोल और फतेह पोल दरवाजा सबसे प्रमुख है। कहा जाता है कि जय पोल को महाराज मानसिंह ने जयपुर और बीकानेर की सेना पर विजय पाने और फतेह पोल को अजित सिंह ने मुगलों पर विजय पाने के लिए बनवाया था।
  • किले में कई महल हैं जिनमें मोती महल, रंग महल, चन्दन महल और फूल महल मशहूर हैं। फुल महल की गोल छत्त पर बारीक सोने की नक्काशी की गई है। देखने यौग्य श्रीनगर चैकी नाम का जौधपुर का विशाल सिंहासन भी यहाँ मौजूद है
  • किले के सबसे ऊँचे स्थान पर बड़ी-बड़ी तोपों के निशान हैं जहाँ से सूर्य अस्त के सुंदर नजारे और नीले रंग का पूरा जोधपुर नजर आ सकता है। साथ ही किले में एक छोटा संग्राहलय भी है जहां शाही पालकी, लघु चित्र, फर्नीचर, पुराने वाद्ययंत्र, और ऐतिहासिक शस्त्रागार आदि रखे हैं जो राजपूताना और राजस्थानी संस्कृति का प्रतीक हैं। 

इसे भी  पढ़े - बीकानेर में घूमने की जगह 

2. सफेद संगमरमर से निर्मित, जसवंत थड़ा - Built in white marble, Jaswant Tada in Hindi :

  • आगरा का ताजमहल तो हम सबके जहन में है और हम सब लगभग इस ताजमहल से तो परिचित हैं लेकिन जोधपुर में संगमरमर की सफेद चादर से ढका जसवंत थड़ा जोधपुर का ताजमहल कहलाता है। इस इमारत को एक स्मारक के रूप में जोधपुर के महाराजा सरदार सिंह ने 1899 में अपने पिता, महाराजा जसवंत सिंह 2 की याद में बनवाया था।
  • जोधपुर की पहाड़ियों के बीच बना यह स्मारक जोधपुर की भीड़-भाड़ से अलग एकांत में बना हुआ है जो पर्यटकों को काफी आकर्षित करता है। इस स्मारक की दीवारों पर जटिल नक्काशी की गई है जो काफी महीन और अद्भुत है और उस पर हुई पॉलिश के कारण सूर्य की चमक से यह अतुलनीय आभा पाती है। इस स्मारक के मैदान में नक्काशीदार गाज़ेबोस, एक टियर गार्डन और एक छोटी झील भी है जो जोधपुर के इस ताजमहल की आभा में चार चाँद लगाते हैं।

3. जोधपुर की मंडोर गार्डन - Famous Mandore Garden in Hindi :

  • प्राकृतिक सौंदर्य हमेशा हमारे मन में एक नई सकारातमक ऊर्जा का संचार करता है। किले, महलों के इस शहर में मंडोर गार्डन यहाँ के सबसे सुंदर गार्डनों में से एक है। अद्भुत प्राकृतिक सौंदर्य और पाषाण कला कृतियों के कारण यह गार्डन पर्यटकों का प्रमुख केंद्र है।
  • 6 वीं शताब्दी में बना यह गार्डन उत्कृष्ट वास्तुकला और महान विरासत का प्रतीक है। मंडोर गार्डन के पास पंचकुंडा में बनी छतरियों की कढाईदार कारीगरी आपको अचंभित कर सकती है, कहा जाता है इन छतरियों का निर्माण मेवाड़ की रानियों की याद में किया गया था।
  • साथ ही इस गार्डन में कई देवी-देवताओं के मंदिर और एक संग्राहलय भी है जो मेवाड़ की विरासत की महान झाकियाँ पेश करता है। साथ ही यहाँ अब एक फन वलर्ड भी बना दिया गया जहाँ आप आनंद उठा सकते हैं।
    विश्व में सर्वश्रेष्ठ होटल के रूप में उम्मेद भवन पैलेस-

4. Best hotel in world, Umaid Bhawan Palace in hindi :

  • जोधपुर के इस गार्डन का निर्माण कोर्ट रोड पर महाराज उम्मीद सिंह ने करवाया था। 26 एकड़ क्षेत्र में, 15 एकड़ चौड़े बगीचे सहित इस महल में एक सिंहासन कक्ष, एक निजी बैठक हॉल, जनता से मिलने के लिए एक दरबार हॉल, एक गुंबददार बैंक्वेट हॉल, निजी भोजन कक्ष, एक बॉलरूम, एक पुस्तकालय, एक इनडोर स्विमिंग पूल और स्पा, एक बिलियर्ड्स कक्ष, चार टेनिस कोर्ट हैं। 
  • यह महल कई हिस्सों में विभाजित है। महल का एक हिस्सा ताज होटल्स द्वारा प्रबंधित किया जाता है। महल में लगभग 347 कमरे हैं और यह जोधपुर के पूर्व राजपरिवार का प्रमुख निवास भी है। महल का एक हिस्सा एक संग्रहालय में रूप में भी स्थापित किया गया है।
  • ग्रेनाईट फर्श और महल की आंतरिक गुम्बद इस पैलेस के आकर्षण का प्रमुख केंद्र है। तो जब भी जोधपुर जाए इस आलिशान पैलेस को देखने का लुत्फ़ ज़रूर उठाए। 

इसे भी  पढ़े - अजमेर में घूमने की जगह

5. लोकप्रिय घंटाघर - Popular Ghantaghar of Jodhpur in Hindi :

जोधपुर के बाजारों से घिरे यहाँ के घंटा घर का निर्माण 200 साल पहले महाराज सरदार सिंह द्वारा किया गया था जो यहाँ का प्रमुख पर्यटक स्थल है। बाज़ार के बीच खड़ी इस इमारत में जाने का टिकट 10 रूपये है। जहाँ से आप जोधपुर शहर के सुन्दर नज़ारे और यहाँ के रंग-बिरंगे बाज़ार के अद्भुत दृश्य देख सकते हैं। यहाँ के आस-पास के बाजारों में सरदार मार्किट बहुत प्रसिद्ध है। टावर और बाज़ार का आनंद एक साथ लेना यात्रियों को लुभाता है।

6. तोरजी का झालरा - Toorji ka Jhalra in Hindi:

  • जोधपुर में सबसे बेहतरीन और उम्दा संरचनाओं में से तोरजी का झालरा एक गहरा कुआँ है। जोधपुर के इस प्रमुख कुएँ का निर्माण 1740 में राजपूत राजा महाराजा अभयसिंह के संरक्षण के लिए बनाया गया था। उन दिनों में यह मिथकीय कथा प्रचलित थी कि जो राजा रानियों और संरक्षकों के लिए एक अच्छे कदम या कुएँ का निर्माण कर सकता है वही राजा राज्य में संपत्ति ला सकता था।
  • जोधपुर के घंटा घर की तंग गलियों में यह कुआँ आपको आसानी से मिल सकता है। अक्सर पर्यटक फोटोग्राफी के उद्देश्य से इस अद्भुत कुएँ को देखने आते हैं। इस कदम के आस-पास कई कैफे और होटल भी हैं। साथ ही यहाँ का गणगौर महोत्सव पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है।

7. विशाल मानव निर्मित कायलाना झील - Manmade lake, Kaylana Lake in Hindi :

  • सुंदर झीलों को देखने हम सभी को लुभाता है, जोधपुर रोड़ से 8 कि. मी. की दूरी पर स्थित सर प्रताप द्वारा बनाई गई यह कृतिम झील मानव निर्मित है और जो पर्यटकों का मुख्य केंद्र है। झील के आस-पास उम्मेद बाँध और बिजलोई के खंडहर है।
  • इस खूबसूरत-सी झील  के आसपास कई ट्रेकिंग पॉइंट, पहाड़ियाँ, मंदिर, छोटे-छोटे तालाब हैं जो खूबसूरत वनस्पतियों और जीवों से घिरे हैं। यह जगह सुबह की ट्रेकिंग के लिए बहुत अच्छी है, और यदि आप वहाँ अपने दोस्त या परिवार वालों के साथ जाते हैं तो वहाँ बोटिंग का आनन्द भी उठा सकते हैं।
  • यह एक काफी लंबी झील है जिसके पास घोड़े और ऊंट की सवारी भी की जा सकती है। झील के चारों ओर के सुंदर बगीचे है जहाँ आप कई विदेशी पक्षियों की प्राजातियों को देखने का लुत्फ़ भी उठा सकते हैं। कहा जाता है कि सर्दियों के समय में साइबेरियन बर्ड भी आपको यहाँ देखने को मिल सकती है। 

8. उम्मेद हेरिटेज आर्ट स्कूल - Umaid Heritage Art School in Hindi :

  • अगर आप भी कला प्रेमी हैं तो आपको जोधपुर के केंद्र में स्थित उम्मेद हेरिटेज आर्ट स्कूल ज़रूर जाना चाहिए। उम्मेद हेरिटेज आर्ट स्कूल एक आर्ट गैलरी है जो पारंपरिक और आधुनिक कलाकृतियों पर केंद्रित है। 
  • यहाँ आपको विजय राज द्वारा पारंपरिक राजस्थानी ललित लघु कला पर मुफ्त में कला अभ्यास करने को मिलेगा, जिसमें राजस्थानी लघु चित्रकला, स्केचिंग और चित्रांकन करना भी शामिल है। साथ में गौरव सोलंकी, जो ग्रेफाइट और चारकोल के अच्छे कलाकार हैं, उनके द्वारा चित्रांकन भी सीखा जा सकता है। 
  • तेल और पानी के रंगों के साथ काम कैसे करते हैं, उनसे कला का सुंदर निर्माण कैसे किया जा सकता है और अन्य सभी संभावित माध्यमों का यहां अभ्यास कराया जाता है। यात्री हमेशा यहाँ की कला का आनंद उठाते हैं जिस कारण यह जोधपुर का प्रमुख पर्यटक स्थल हैं। कला को हमेशा प्यार और सम्मान के साथ यदि आप भी सीखना या देखना चाहते हैं तो इस आर्ट स्कूल में एक बार ज़रूर आपको जाना चाहिये।

9. जोधपुर की बालसमंद झील - Very beautiful baalsamand jheel in Hindi-

  • जोधपुर में 5 किलोमीटर की दूरी पर मंडोर रोड पर स्थित है, यह आश्चर्यजनक बालसमंद झील पर्यटकों को काफी आकर्षित करती है। लाल बलुआ पत्थर से निर्मित है और ठेठ अलंकृत राजपूत वास्तुकला प्राचीन विरासत की धरोहर है। 
  • बाल समंद झील को 13 वीं शताब्दी में एक जलाशय के रूप में बनाया गया था जो शहर को पीने के पानी की आपूर्ति करता था। हरे-भरे बगीचों से घिरी इस झील के आस-पास आम, पपीता, अनार, आदि जैसे विभिन्न प्रकार के पेड़ शामिल हैं। 
  • आप इस झील के पानी के पास लंबे समय तक टहल सकते हैं और साथ ही आप बालसमंद पैलेस के रेस्तरां में बैठकर सुंदर झील और सूर्यास्त के दृश्य भी देख सकते हैं। 

इसे भी  पढ़े - दिल्ली में घूमने की अच्छी जगह

10. प्राचीन स्मारक खेजड़ला किला - Old heritage, khejarla Fort in Hindi-

  • क्या आपने कभी सोचा है कि प्राचीन भारत के शाही राजाओं और रानियों के लिए उनके शानदार महल में रहना कैसा रहा होगा? यदि आप भी ऐसा सोचते हैं, तो जोधपुर का खेजड़ला किला आपको यह अनुभव करा सकता है। यह किला जोधपुर के महाराजा द्वारा 17 वीं शताब्दी में निर्मित, 400 साल पुरानी इमारत है जिसे अब एक होटल में बदल दिया गया है, और कई प्रकार की आलिशान सुविधाएं इसमें दी गई हैं।
  • यह किला अपने परिवेश की प्राकृतिक ऊबड़-खाबड़ता और शाही भव्यता के कारण पर्यटकों में प्रचलित है। इसके बाहरी हिस्से पर पत्थरों पर की गई आधुनिक शैली की सजावट और ग्रेनाइट से की गई है। लाल बलुआ पत्थर से बना यह किला राजपूत वास्तुकला का एक हस्ताक्षर और विरासत का प्रतीक है। 
  • इस किले की शानों शौख्त का आनंद उठाने के साथ आप आस-पास के गाँव में घूमने का आनन्द भी उठा सकते हैं। तो खेजवाड़ा किले की यात्रा आपको शाही और सामान्य गाँव दोनों जीवन का आनन्द दे सकता है।

11. जोधपुर का प्रसिद्ध राय का बाग़ पैलेस - Popular and famous Rai Baag palace in Hindi-

  • राय का बाग पैलेस, जोधपुर के राय बाग के रेलवे स्टेशन के पास स्थित है। यह पैलेस जसवंत सिंह प्रथम की रानी हदीजी द्वारा 1663 ई. में बनवाया गया था। कलात्मक रूप से उत्कृष्ट और अतुलनीय आभा लिए हुए यह पैलेस अपनी शान और विरासत के लिए पर्यटकों के बीच अत्यंत मशहूर है। 
  • पैलेस की गुंबद शैली की वास्तुकला और संगमरमर से बने इस महल के कमरे महल की सुंदरता में चार चाँद लगाते हैं। कहा जाता है कि यह राजा जसवंत सिंह का पसंदीदा स्थान था जो वर्तमान में पर्यटकों का भी प्रमुख स्थल है।  

12. महामंदिर मंदिर - Mahamandir Jodhpur in Hindi :

  • ईश्वर के दर्शन और उनका आशीर्वाद पाना हम सभी की इच्छा होती है और प्रमुख स्थलों के प्रसिद्ध धाम के दर्शन करना उतना ही सुखद होता है। जोधपुर का महामंडलेश्वर या महामंदिर यहाँ का सबसे प्राचीन मंदिर है जिसका निर्माण 923 ई. में नाथ मंडल द्वारा कराया गया था।
  • भगवन शिव को समर्पित किया गया यह मंदिर 84 स्तम्भों के साथ मंदिर की जटिल मुद्राओं, आकृति और अन्य कलाकृतियों को दर्शाता है। मंदिर की आंतरिक सजावट बारीक चित्रों और नक्काशी से की गई है जो पर्यटक का प्रमुख केंद्र है।
  • मंदिर में एक हॉल भ जो योग कलाओं और कक्षाओं मरण लिए प्रसिद्ध है। यह मंदिर जोधपुर से 2 कि.मी. दूर स्थित है जिस कारण यह यात्रियों और श्रद्धालुओं का मुख्य केंद्र है। आप जब भी जोधपुर आए तो इस मंदिर के दर्शन अवश्य करने जाए।   

13. जोधपुर का प्रमुख नागौर किला - Famous Nagour fort of Jodhpurin Hindi- 

  • नागौर शहर का यह किला जोधपुर और बीकानेर के बीच में स्थित है। अपनी ऊँची दीवारों और विशाल परिसर वाले इस रेतीले किले को 2 सदी में बनाया गया था। इस किले में तीन मुख्य प्रवेश द्वार हैं। 
  • पहला प्रवेश द्वार लोहे और लकड़ी के नुकीले कीलों से मिलकर बना है जो दुश्मनों और हाथियों के हमलों के उद्देश्य से बनाया गया था। दूसरा प्रवेश द्वार बीच का पोल है और आखिरी प्रवेश द्वार कचेरी पोल है।
  • इस किले में कई फव्वारें, महल और सुंदर बाग़-बगीचे हैं। जिनमें हाड़ी रानी महल, दीपक महल, आभा महल या अकबरी महल, और कई भव्य महल प्रसिद्ध हैं। साथ ही यहाँ एक लग्जरी होटल भी हैं जहाँ आप सभी प्रकार की सुविधाएँ प्राप्त सकते हैं।

14. बेस्ट शॉपिंग मार्केट इन जोधपुर - Best shopping market in Jodhpur in hindi :

चूड़ियों से लेकर फुटवियर, रंग-बिरंगे दुपट्टे से लेकर खूबसूरत झुमके तक, हस्तशिल्प कला से लेकर सांस्कृतिक कला तक जोधपुर शहर की हर चीज अनोखी है। इसलिए यहाँ के बाज़ार भी अनोखे हैं और रंग-बिरंगी रौनक से सजे धजे रहते हैं। 

  • क्लॉक टॉवर मार्केट - मसालों की बेहतरीन विविधता के लिए
  • नाई सरक - प्रसिद्ध बैंडहेज कपड़ों के लिए
  • सोजती गेट मार्केट - राजस्थानी हस्तशिल्प, स्मृति चिन्हों के लिए
  • मोची बाज़ार - जोधपुरी जूतिस के लिए
  • उम्मेद भवन पैलेस मार्केट - क्लासिक प्राचीन वस्तुओं के लिए
  • कपारा बाजार - पारंपरिक वस्त्रों के लिए
  • सर्राफा बाजार - कपड़े और प्राचीन वस्तुओं और नाजुक हस्तशिल्प के लिए
  • त्रिपोलिया बाजार 

यदि आप इन बाज़ारों की सैर करे तो आपको एक अनोखा ही अनुभव मिलेगा। राजस्थानी, मेवाड़ी और राजपूतानी विरासत, संस्कृति की आभा लिए हुए यह बाजार एक अनोखा दृश्य प्रस्तुत करते हैं जो पर्यटकों के दिल को छू जाता है। 

आप जब भी जोधपुर जाए तो यहाँ के बाजारों का आनंद लेना न भूलें। क्योंकि खरीददारी के शौकीनों के लिए इससे बेहतरीन जगह कोई और हो ही नहीं सकती।

इसे भी  पढ़े - पांडिचेरी में घूमने की जगह

15. लोकल स्ट्रीट फूड जोधपुर - Jodhpur ka laajavab famous food in hindi :

  • खाने के शौकीन लोगों को नये-नये व्यंजन ट्राय करना भाता है। जोधपुर के व्यंजन बहुत समृद्ध हैं और बहुत सारे भारतीय व्यंजन इस महानगर से उत्पन्न हुए माने जाते हैं। यह अपने मसालेदार, स्वादिष्ट मिठाइयों और आकर्षक और अत्यधिक मसालेदार स्नैक्स के लिए जाना जाता है। 
  • जोधपुर के कुछ प्रमुख व्यंजन प्रसिद्ध हैं जिनमें से बाजरे की खिचड़ी, कलाकंद, दाल-बाटी-चूरमा, मेवे की कचौरी, मिर्ची वडा, घेवर, दाल लड्डू, मोतीचूर लड्डू, प्याज की कचौरी, बादाम का हलावा, काबुली, चंदलिया और मलाई लस्सी बहुत मशहूर है।
  • सुनने में ही लजीज लगने वाले व्यंजनों का आनंद जब आप उठाएँगे तो सोचिए इनका स्वाद आपको भीतर तक आनंद ए भर देगा। साथ ही यहाँ के क्लासिक शानों शौख्त से लाबलेब रेस्टोरेंट भी आपको नया अनुभव देंगे। इसके अलावा यहाँ की स्ट्रीट पर भी आपको यह व्यंजन उतना ही अचंभित करेंगे। तो जब भी आप जोधपुर जाए तो इन व्यंजनों का आनन्द ज़रूर लें।    
Nature