दार्जिलिंग में घूमने की जगह - Best Tourist Places in Darjeeling in Hindi

सभी पाठको को नमस्कार , आज के इस लेख में हम दार्जलिंग की तमाम जानकारी आप सभी के साथ साझा कर रहे हैं, जिसके लिए लेख को अंत तक ज़रूर पढ़ियेगा। उम्मीद है लेख आप सभी को पसंद आएगा।  

दार्जिलिंग में घूमने की जगह - Best Tourist  Places  in Darjeeling in Hindi
Nature

दार्जिलिंग में घूमने लायक जगह - Best places to visit in Darjeeling in Hindi 

  • यदि आपको पहाड़, घाटियाँ, हरियाली और चाय के बागान देखने का शौक है तो भारत का दार्जिलिंग जो  पश्चिम बंगाल का एक शहर है, आपके लिए एकदम उपयुक्त स्थान है। इन घाटियों में आप अपने सारे तनाव और चिंताओं से मुक्ति पा सकते हैं। यहाँ का सुहावना वातावरण आपकी छुट्टियों को सुहावना बनाने के लिए पर्याप्त है।
  • दार्जिलिंग अपने दो चीजों के कारण भारत का सबसे ज्यादा मशहूर पर्यटक स्थल है एक तो विश्व की तीसरी सबसे ऊँची चोटी कही जाने वाली ‘कंचनचंगा’ के लिए और दूसरा यहाँ के चाय के बागान के लिए। इसके आलावा भी यहाँ ऐसे अनेक स्थान हैं जहाँ आप एक नया और रोमांचित अनुभव कर सकते हैं।   

दार्जिलिंग का इतिहास - Darjeeling history in Hindi :

  • प्राकृतिक सुन्दरता से लबालेब भारत का यह शहर पहले सिक्किम का हिस्सा हुआ करता था, बाद में वह भूटान के अधीन आ गया है, 18वीं शताब्दी में नेपाल ने इस पर फिर कब्जा कर लिया। काफ़ी समय तक यह ईस्ट इण्डिया कंपनी के अधीन भी रहा। इतने राजनीतिक परिवर्तन के बाद दार्जिलिंग एक युद्ध भूमि सा बन गया था।
  • दार्जिलिंग शब्द की उत्पत्ति दो तिब्बती शब्द ‘दोर्ज’ (ब्रज) ‘लिंग ‘(स्थान) से हुई है, जिसका शाब्दिक अर्थ हुई ब्रज भूमि। 1856 के आस-पास दार्जिलिंग में चाय की खेती शुरू हुई। स्वतंत्रता के बाद यह भारत के अधीन हो गया और अब यह यहाँ का सबसे प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है।    

दार्जिलिंग के दर्शनीय स्थल - List of best amazing places in Darjeeling

1. दार्जिलिंग की ऊँची चोटी टाइगर हिल - Famous Tiger Hill of Darjeeling in Hindi :

  • नाम से ही ऐसा लगता है कि जगह कुछ दमदार और विशाल ज़रूर होगी। आहार आप ऐसा सोच रहे हैं तो आप बिल्कुल ठीक सोच रहे हैं। दार्जिलिंग से 11 कि.मी. दूर घूम स्टेशन के पास स्थित यह पहाड़ की चोटी दार्जिलिंग के कंचनचंगा के बाद सबसे विशालतम चोटी है। 
  • इस पहाड़ की ऊँचाई लगभग 8482 फीट है जहाँ से पूरा दार्जिलिंग शहर आपको एक खिलौनों की दुनिया जैसा लगेगा। टाइगर हिल पर प्रतिदिन हजारों की संख्या में पर्यटक सूर्योदय के नजारों का आनंद उठाने आते हैं। इसकी ऊँचाई पर पहुँच कर सूर्य इतनी करीब महसूस होता है कि आप उसे छू सकते हो, ऐसा अहसास आपको होगा। 
  • बादलों की सफेद चादर एक कालीन की तरह प्रतीत होती है। जो आपको स्वर्ग सा अहसास कराने के लिए पर्याप्त है। सर्दी के मौसम में बर्फ की चादर से ढके पेड़ों और दार्जिलिंग शहर को देखना अनोखा अनुभव है जो सफ़ेद बर्फ से ढका होने के कारण चाँदी से चमकता है। इस हिल की चढ़ाई करने में आपको कम से कम 1 घंटे का समय लग सकता है।

2. दार्जिलिंग का बतासिया लूप - Best Tourist Place Batasia Loop of Darjeeling in Hindi :

  • दार्जिलिंग शहर के केंद्र में बतासिया लूप एक प्रमुख पर्यटक स्थल है। पहाड़ों के घूमावदार रास्तों को काटकर संतक और ढालूदार रास्तों के जरीय टॉय ट्रेन की लाइन बिछाई गई है। यह स्थान 360 डिग्री में दार्जिलिंग शहर और कंचनचंगा पहाड़ के सुंदर नजारों को प्रस्तुत करता है।
  • 50,000 वर्ग फीट में फैले इस स्थान को एक सुंदर बाग की तरह बनाया गया है, जहाँ टॉय ट्रेन के जरीय आप पूरा स्थान घूम सकते हैं। इसके अलावा इस स्थान के बीच में एक युद्ध स्मारक भी बना हुआ है जिसमें गोरखी स्वतंत्रता सैनानियों के नाम एक बड़े ग्रेनाइड पत्थर पर अंकित किये गये हैं।
  • टॉय ट्रेन यात्रा के दौरान इस स्थान पर रूकती है जिससे आप शहीदों के इस स्मारक को अच्छी तरह देख सकते हैं। इसके अलावा बागीचे में देवदार, रोड़ोडेंड्रोन, गिंगको और बिलोबा आदि पौधों की दुर्लभ प्रजातियाँ देखने को मिल जाएँगी। 

3. दार्जिलिंग की प्रमुख हिमालयन रेलवे - Famous Tour of Darjeeling Himalayan Railway in Hindi : 

  • हिमालयन रेलवे या दार्जिलिंग की आयरन लेडी कही जाने वाली यह टॉय ट्रेन मात्र 2 फूट चौड़ी रेलवे लाइन पर चलती है। यह ट्रेन 1881 में अंग्रेजों द्वारा बनाई गई थी और तब यह कोयले से चलती थी। 
  • लेकिन अब डीजल वाले इंजनों का प्रयोग किया जाने लगा है। यह ट्रेन सिलीगुड़ी, जलपाईगुड़ी से दार्जिलिंग तक 88 कि.मी. का सफ़र तैय करती है। इस ट्रेन का सफ़र किसी फ़िल्मी सीन से कम नहीं है। 
  • पूरे दार्जिलिंग शहर के दर्शन कराती यह ट्रेन 10 मिनट बतासिया लूप और 30 मिनट घूम स्टेशन पर रूकती है। सुबह 2 बार और शाम को 3 बजे एक बार इसह ट्रेन का सफर शुरू होता है। तो जब भी दार्जिलिंग जाए इस टॉय ट्रेन का सफ़र करना न भूलें।  

4. दार्जिलिंग की मशहूर आब्जर्वेटरी हिल - Famous Observatory Hill of Darjeeling in Hindi :

  • दार्जिलिंग की मशहूर ओब्जेर्वेटरी हिल मॉल रोड़ के पास स्थित है। यह स्थान अपनी अद्भुत सुन्दरता और घूमावदार पहाड़ी रास्तों के लिए पर्यटकों के बीच प्रसिद्ध है। इसके अलावा यह स्थान तिब्बती स्मारक और महाकाल मंदिर के लिए प्रसिद्ध है।
  • इन मन्दिरों तक पहुँचने के लिए आपको 15 मिनट की पहाड़ीनुमा चढ़ाई करनी पड़ सकती है। साथ ही यहाँ एक गुफा भी है। इस चोटी पर पहुँच कर आपको प्रकृति का अनुपम ददृश्य प्राप्त होता है। तो अपने दार्जिलिंग के ट्रिप में इस स्थान को सम्मिलित करना बिलकुल न भूलें। 

5. दार्जिलिंग का प्रमुख स्थान श्रुब्बेरी नाइटिंगेल पार्क - Famous Shrubberi Naaitingale Park Darjeeling in Hindi :

  • दार्जिलिंग का श्रुब्बेरी नाइटिंगेल पार्क एक बेहद ही सुंदर स्थान है। यह सुंदर पार्क अपनी प्राकृतिक सुन्दरता के साथ कंचनचंगा के अद्भुत दृश्यों को भी यहाँ से देखा जा सकता है। 
  • कहा जाता है ब्रिटिश काल में यह पार्क सर् थोमस टर्टन के निजी घर का आँगन हुआ करता था जिसे बाद में एक सार्वजनिक पार्क में तब्दील कर दिया गया। अपनी पार्क की सुन्दरता के अलावा यहाँ एक विशाल शिव की मूर्ति है और साथ ही एक म्यूजिकल फव्वारा भी। 
  • शाम के समय इस स्थान की रौनक ही अलग होती है। इसलिए इस स्थान का दौर करना आपके ट्रिप का ज़रूरी हिस्सा होना चाहिए।

6. दार्जिलिंग का साक्य मठ - Best Place Sakya Monastery of Darjeeling in Hindi :

  • दार्जिलिंग से 8 कि.मी. दूर सक्या मठ तिब्बति लोगों का प्रमुख और प्रसिद्ध मठ है जिसका नाम यिगा चॉलिंग के नाम पर रखा गया था। यह मठ तिब्बतियन पीली टोपी वाले सम्प्रदाय से संबंधित है।
  • इस मठ में 15 फीट ऊँची मैत्री बौद्ध की प्रतिमा स्थापित है। साथ ही इस मठ की बहारी संरचना का निर्माण मंगोलाई ज्योतिषी और भिक्षु सोकोपो शेरबा ग्योत्सा द्वारा बनाया गया था।
  • इस मठ की बाहरी सुंदरता और डिजाइन आपको आश्चर्यचकित कर सकता है। इसलिए दार्जिलिंग की यात्रा में इस मठ की यात्रा न करना भूलें।

7. दार्जिलिंग का पद्मजा नायडू हिमालयन जूलॉजिकल पार्क - Famous Padmja Naidu Himalyan Zoological Park Darjeeling in Hindi :

  • दार्जिलिंग के मशहूर जूलॉजिकल पार्क का नाम सरोजिनी नायडू की बेटी पद्मजा नायडू के नाम पर रखा गया है। इस पार्क को सेंट्रल जू अथॉरिटी ऑफ इंडिया के रेड पांडा कार्यक्रम के अधीन बनाया गया था।
  • इस जूलॉजिकल पार्क में हिम तेंदुए, तिब्बतीए भेड़िये, एशियाटिक काला भालू, कलाउडर तेंदुआ, रेड पांडा, गोरल, नीली भेड़ और अन्य हिमालयन की लूप्त और समाप्तप्राय प्रजातियों को सुरक्षित रखा गया है।
  • यह पार्क इतना सुंदर है और इतने आकर्षक तरीके से इसका रखरखाव किया गया है कि यह भारत के बेहतर चिड़ियाघरों में से एक है।

8. दार्जिलिंग की तीस्ता और रेजेंट नदी राफ्टिंग का केंद्र - Famous Rejent or Teesta River of Darjeeling in Hindi :

  • दार्जिलिंग अपनी प्राकृतिक सुंदरता में अपने पहाड़, चोटी, घाटियों के अलावा अपनी नदियों के लिए भी प्रसिद्ध है। तीस्ता और रेजेंट नदी दार्जिलिंग और सिलीगुड़ी की घाटियों से निकलती हैं जो लगभग 172 कि.मी. लंबी हैं।
  • ये नदियाँ दार्जिलिंग में रिवर राफ्टिंग और अन्य पानी से जुड़ी गतिविधियों के लिए मशहूर हैं। 1-4 लेवल तक रैपिड्स इन नदियों में राफ्टिंग के लिए अनुमतिप्राय हैं। तीस्ता नदी में कोई भी व्यक्ति राफ्टिंग करने जा सकता है लेकिन रेजेंट नदी में केवल ट्रेंड राफ्ट्रस को इजाजत है।   

9. दार्जिलिंग का प्रसिद्ध रॉक गार्डन - Darjiling ka Famous Rock Garden in Hindi :

  • दार्जिलिंग से 10 कि.मी. दूर हिमालय की सुंदर पहाड़ियों के बीच रॉक गाडर्न स्थित है। बारबोटी गार्डन के नाम से भी जाना जाने वाला यह स्थान पर्यटकों के लिए एक प्रमुख पिकनिक स्पॉट है। जहाँ हर वर्ष भारी मात्रा में यात्री आकर घाटियों, पहाड़ियों और गार्डन का आनंद उठाते हैं।
  • इस रॉक गार्डन में विभिन्न तरह के फूल आपके भीतरी मन को भी रंगीन कर देते हैं। ढालूदार रास्तों के कारण आस-पास का वातावरण अत्यंत रमणीय होता है। इसके अलावा पार्क में एक म्यूजिकल फव्वारा भी है और ढलान के नीचे एक झील भी है।
  • यहाँ शान्ति से बैठना आपको अलग ही शांति प्रदान करेगा। साथ ही झील के आप-पास की हरियाली और जीव-जन्तु आपके मन को प्रसन्नचित कर देंगे।

10. दार्जिलिंग में रोपवेय की यात्रा - Famous Ropeway Ride of Darjiling in Hindi :

  • दार्जिलिंग जैसा शहर जो प्राकृतिक सुंदरता से परिपूर्ण है, जहाँ चाय के बागान और पहाड़ों की चोटियाँ हैं। इन पहाड़ों की ऊँचाइयों को देखने के लिए और पर्यटकों की सुविधा के उद्देश्य के लिए यहाँ रोपवेय कारों की सुविधा की व्यवस्था की गई है। 
  • यह रोपवेय कारें सोनमरी के नॉर्थ पॉइंट से होते हुए सिंगला बाज़ार तक जाती है, जो रमण नदी के पास स्थित है, जो 7000 फीट की ऊँचाई पर हैं। इन वोपवेय कारों के जरिए चाय के बागानों का सबसे बेहतरीन दृश्य यहाँ से देखा जा सकता है। साथ ही जिन स्थानों पर पहुँचना मुश्किल था वहाँ इन केबल कारों के जरिए पहुँचना आसान हो गया है।
  • इन केबल कारों को 1968 में शुरू किया गया था और एक कार में तकरीबन 6 लोगों के बैठने की जगह होती है। इसके अलावा in केबल कारों के आस-पास बने पहाड़ी कैफों में आप आराम और खाना-पीना कर सकते हैं।

11. दार्जिलिंग का जापानी मंदिर - Famous Japnies Temple Darjiling in Hindi :

  • दार्जिलिंग का यह मंदिर शहर के बिलकुल बीच में स्थित है जो लगभग 10 मिनट की दूरी पर है। दार्जिलिंग की यह सफेद रंग की इमारत जापानी वास्तुकला का अद्भुत नमूना है जो शांत और सौम्य है। यह खुबसूरत इमारत पहाड़ी शृंखला के बिलकुल बीच में है। 
  • मंदिर के प्रवेश द्वार में एंट्री करते ही आपको फूजी गुरुदेव की प्रतिमा दिखाई देगी और बौद्ध धर्म में शान्ति और धैर्य का प्रतीक हैं। इसके आलावा यहाँ भगवान बुद्ध के चार अवतारों के चित्र मंदिर में बने हुए हैं। मंदिर में ड्रम की ध्वनी के साथ आप प्रार्थना करते हुए दिव्यता का अनुभव कर सकते हैं।       

12. दार्जिलिंग का सिंगालीला राष्ट्रिय उद्यान - Famous Singalila National Park of Darjiling in Hindi :

  • दार्जिलिंग का यह सिंगालीला राष्ट्रिय उद्यान बहुत ही खुबसूरत है। उष्णकटिबंधीय आद्र जलवायु और घने जंगल, पवर्तों और घाटियों से घिरे होने के कारण इसकी सुंदरता अलग ही होती है। यह लगभग 78.46 वर्ग मी. क्षेत्रफल में फैला हुआ है जो समुद्र तल से लगभग 3630 मी. की ऊँचाई पर स्थित है।
  • इस राष्ट्रिय उद्यान में तेंदुए, पैंगोलिन, चिंकारा, हाथी, हिरण, क्लाउडेड तेंदुआ, ब्लैक पैंथर, पैंगोलिन, हिमालयन ब्लैक बीयर जैसी लुप्त प्रजातियों और समाप्तप्राय को यहाँ संरक्षित किया गया है। 
  • साथ ही यह स्थान ट्रेकिंग के लिए भी बहुत मशहूर है। इन घाटियों में इन पहाड़ी एक्टिविटी का आनंद लेना आपकी छुट्टियों के मजे को दुगुना कर देगा।     

13. दार्जिलिंग का मशहूर हिमालियन पर्वतारोहण संस्थान - Famous Himaliyan Mountaineering institute of Drajiling in Hindi :

  • दार्जिलिंग का हिमालियन पर्वतारोहण संस्थान यहाँ का सबसे प्रसिद्ध पर्वतारोहण संस्थान है। इस संस्थान की स्थापना 1958 में हुई थी और उसके बाद से यह यहाँ आने वाले पर्यटकों और दार्जिलिंग के निवासियों को पर्वतारोहण की ट्रेनिंग देता है। 
  • पूरी व्यवस्था और संपूर्ण सुरक्षा के साथ इस संस्थान में पहाड़ की चढ़ाई सिखाई जाती है। और ऐसे तमाम पहाड़ी खेल भी यहाँ सिखाए जाते हैं। यदि आप भी पहाड़ की चढ़ाई का आनंद पूरी सुरक्षा के साथ लेना चाहते हैं तो आप भी इस संस्थान में आकर सीख सकते हैं।

14. दार्जिलिंग की संदकफू पहाड़ी - Famous Sandakphu Peak of Darjiling in Hindi :

  • संदकफू दार्जिलिंग की प्रमुख पहाड़ी चोटियों में से एक है। यह चोटी लगभग 11,491 फीट ऊँची है। इस चोटी की विशेषता यह है कि दुनिया की पाँच सबसे ऊँची चोटियों में से 4 के अद्भुत दृश्य इस चोटी से देखे जा सकते हैं। कोबरा लिली के बहुत फूल होने के कारण इसे ‘जहरीले पौधे की चोटी’ भी कहा जाता है। 
  • यहाँ रोडोडेंड्रोन, मैगनोलियास के साथ हरे-भरी घाटियों के कारण यह जगह बहुत ही सुंदर है। लेकिन यह जगह और इस पहाड़ी की चढ़ाई इतनी आसान नहीं है, इसलिए आपको शारीरिक रूप से पूर्णता स्वस्थ होना चाहिए।

15. दार्जिलिंग की चाय के बागान - Famous Darjiling Tea in Hindi :

  • दार्जिलिंग आए और चाय के बागान नहीं देखे ये तो बिलकुल चाय में चीनी कम जैसी बात है। दार्जिलिंग के लगभग 80% हिस्से पर चाय की खेती होती है। यह हिस्सा लगभग 17,500 वर्ग क्षेत्रफल के आस-पास है। ढालूदार मैदानों पर चाय के बागान और यहाँ की खुशबू आपको भीतर तक मनमोहित कर देती है।
  • दार्जिलिंग में कई तरह की चाय की खेती की जाती है जिसकी जानकारी आपको गाइड और सामान्य जन द्वारा प्राप्त हो सकती है। दार्जिलिंग के कुछ प्रमुख चाय के बागान हैप्पी वैली टी एस्टेट, मकाबीरी टी एस्टेट, गोमती टी एस्टेट, ग्लेनबर्न टी एस्टेट और चामोंग टी एस्टेट हैं जहाँ जाकर चाय की  विभिन्न प्रजातियों को देख सकते हैं। 

दार्जिलिंग घूमने का सबसे सही समय - Best Time to visit Darjeeling in Hindi :

  • दार्जिलिंग घूमने का सही समय मार्च से जून तक सबसे अच्छा समय है क्योंकि जब भारत के अन्य राज्यों में भारी गर्मी पड़ रही होती है तब यहाँ का तापमान 14 से 8 डिग्री सेल्सियस तक रहता है। 
  • बरसात में यहाँ भारी मात्रा में वर्षा होती है और सर्दी के मौसम में यहाँ का तापमान 1 डिग्री तक गिर जाता है। दिसंबर से फरवरी में यहाँ कपल्स हनीमून सेलिब्रेट करने यहाँ आते हैं। 

दार्जिलिंग के मशहूर बाजार और प्रमुख खरीदारी की चीज़ें - Best Shopping Market Darjeeling in Hindi :

  • खरीददारी के शौकीन लोगों को नई जगहों को एक्सप्लोर करना उतना ही भाता है जितना कि छुट्टियों का आनंद लेना। खरीदारी आपकी छुट्टियों का हिस्सा बन ही जाती है। तो जब भी आप दार्जिलिंग आयें तो यहाँ के बाजारों की सैर करना न भूलें। 
  • यहाँ आपको दार्जिलिंग की मशहूर चाय के अलग-अलग फेल्वर्स के साथ कई हस्तशिल्प की वस्तुएँ, ऊनी सकार्फ़ और टोपी, जंक जूलरी, और कई तरह की एंटिक आइटम आपको यहाँ के बाजारों में मिल सकती हैं। 
  • नेहरु रोड़- लेदर बैग, वुलंस, बुक्स, हस्तकला की वस्तुएँ
  • बतासिया लूप- घर सजाने की वस्तुएँ, दार्जिलिंग चाय, 
  • घूम मोनेर्स्ट्री- तिब्बतियन हस्तकला की वस्तुएँ, सिंगिंग बेल्स, प्रार्थना फ्लैग्स, ठंगास
  • तीस्ता बाजार- शिकार की वस्तुएँ, पेंटिंग्स, चप्पलें
  • पशुपति नगर- ऊनी कपड़े, चाय और अन्य वस्तुएँ
  • मॉल रोड़-फैंसी जूलरी, ऊनी कपड़े, शॉल, स्कार्फ
  • चौक बाजार- जूलरी, चाय और ऊनी कपड़ों 

दार्जिलिंग का फेमस खाना - Best Local Food of Darjeeling in Hindi :

  • भारत का यह शहर जितना अपनी प्राकृतिक सुन्दरता, हिमायल के हसीन दृश्य, चाय के बागान, सुहावने मौसम के लिए जितना प्रसिद्ध है उतना ही यह अपने तिब्बतियन व्यंजनों और अन्य स्वादिष्ट व्यजंनों के लिए भी जाना जाता है। यह व्यंजन जितने दिखने में सुंदर लगते हैं खाने में भी इनका जवाब नहीं होता। 
  • गोरखाओं, खम्पा, लेप्चा, शेरपाओं की संस्कृति लिए यह शहर अनेक व्यजंन आपके सामने प्रस्तुत करता है। जिनमें तुपका (नुडल सूप), पारंपरिक नेपाली थाली (दाल, भात, तरकारी, आचार, चटनी और मीठा), नागा किसीने, कुर्पे (स्नैक्स), मोमस, आलू दम, सेल रोतिस, चांग, शाफालय और यहाँ की मशहूर दार्जिलिंग चाय आपके मुँह में पानी लाने के लिए काफी है।

दार्जिलिंग कैसे पहुँचे - How To Reach Darjeeling in Hindi :

  • दार्जिलिंग पहुँचने के लिए देश के कई राज्यों से सीधे बस, ट्रेन और हवाई जहाज की सुविधा उपलब्ध है। जहाँ से आप आसानी से दार्जिलिंग पहुँच सकते हैं।

प्लेन के रास्ते दार्जिलिंग कैसे पहुँचे - How To Reach Darjeeling by Flight in Hindi :

  • दार्जिलिंग का सबसे निकटम हवाई अड्डा बागडोरगा हवाई अड्डा है। यह हवाई अड्डा दार्जिलिंग से लगभग 88 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। जहाँ से आप किसी भी कैब या प्राइवेट टैक्सी के द्वारा लगभग 3 घंटे के सफ़र के बाद दार्जिलिंग पहुँच सकते हैं।

ट्रेन के रास्ते दार्जिलिंग कैसे पहुँचे - How To Reach Darjeeling By Train in Hindi :

  • ट्रेन के रास्ते दार्जिलिंग पहुँचने के लिए आपको न्यू जलपाईगुड़ी जाना होगा और फिर वहाँ से लगभग 80-84 कि.मी. दूरी का रास्ता तय करके आप दार्जिलिंग पहुँच सकते हैं। न्यू जलपाईगुड़ी से भारत के मेट्रो राज्य जुड़े हुए हैं।

सड़क के रास्ते दार्जिलिंग कैसे पहुँचे - How To Reach Darjeeling By Road in Hindi :

  • सड़क मार्ग के रास्ते दार्जिलिंग पहुँचने के लिए आपको सिलीगुड़ी के रास्ते दार्जिलिंग पहुँचना होगा। सिलीगुड़ी तक पहुँचने के लिए भारत के कई बड़े राज्यों से सीधे बस सेवा उपलब्ध है। सिलीगुड़ी से आगे आप कैब या टैक्सी के सहारे दार्जिलिंग पहुँच सकते हैं।
Nature