कूर्ग हिल स्टेशन में घूमने लायक पर्यटन स्थल - Tourist Places in Coorg hill station to visit in Hindi

सभी पाठक को नमस्कार। आज के इस लेख में हम कुर्ग हिल स्टेशन की तमाम जानकारी आप सभी के साथ साझा कर रहे हैं, जिसके लिए लेख को अंत तक ज़रूर पढ़ियेगा। उम्मीद है लेख आप सभी को पसंद आएगा।    

कूर्ग हिल स्टेशन में घूमने लायक पर्यटन स्थल - Tourist Places in Coorg hill station to visit in Hindi
Nature

कूर्ग हिल स्टेशन में घूमने की जगह - Coorg Tourist Places in Hindi 

  • भारत का स्कॉटलैंड कहलाया जाने वाला यह शहर कर्नाटक राज्य का बेहतरीन और सबसे सुन्दर हिल स्टेशन में से एक है। यह हिल स्टेशन कर्नाटक के दक्षिण पश्चिम भाग में स्थित है जो समुद्र तल से 900 मी. की ऊँचाई पर एक पहाड़ पर स्थित है।
  • यदि आप पहाड़ों, घाटियों घनी हरियाली आदि के शौकीन हैं तो यहाँ की अद्भुत सुंदरता, पहाड़ियाँ, घाटियाँ, चाय के बागान, कॉफी के बागान, संतरे के बाग, रिम-रिम सुंदरता का प्रतीक लिए झरने आपको लुभाने के लिए काफी हैं।
  • इस हिल स्टेशन पर आप ट्रैकिंग, गोल्‍फ, एंगलिंग और रिवर राफटिंग आदि एडवेंचर्स को बेहद पसंद कर सकते हैं। यहाँ का हसीन मौसम आपके मान को शांति और असीम सुख से भर देगा जो आपकी छुट्टियों के लिए एक बेस्ट स्थान है।     

कुर्ग का इतिहास - Coorg history in Hindi :

  • कुर्ग की उत्पत्ति कोडगू से हुई है जिसमें कोड का अर्थ है- ‘आना’ और अव्वा का अर्थ है- ‘माता’। जिसे कावेरी माता को समर्पित किया गया है। कुर्ग शहर लगभग 8 वीं शताब्दी में बसा था जहाँ सबसे पहले गंगा वंश का शासन था और बाद में यह कई शासकों की राजधानी रहा जैसे- पांडवों, चोल, चालुक्य और कद्म्य आदि।
  • 1947 तक कुर्ग पर अंग्रेजों का शासन था, 1950 के तक यह एक स्वतंत्र राज्य बना रहा और बाद में राज्यों का पुनर्गठन किया तब इसे कर्नाटक का एक शहर बना दिया गया। 

कूर्ग हिल स्टेशन के मुख्य पर्यटन स्थल - Famous Place Visit in Coorg in Hindi :

1. कुर्ग का कश्मीर कहलाने वालाअबे झरना - Famous Abbey Falls in Coorg in Hindi :

  • कुर्ग के सबसे खुबसूरत झरनों में से एक अबे झरना कुर्ग का कश्मीर कहलाता है। यह स्थान कॉफ़ी और यहाँ की अद्भुत प्रकृति के लिए जाना जाता है। इस झरने के आस-पास की सुंदर भूमि और यहाँ का नजारा पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। जिसको नज़रअंदाज़ करना आपके लिए मुश्किल है।
  • कुर्ग का यह झरना मदिकेरी से 8 कि.मी. दूर पश्चिम में स्थित है। जो कावेरी नदी का प्रारम्भ माना जाता है। अबे झरना कॉफ़ी के बागानों और काली मिर्च की लताओं के बीच स्थित है जहाँ एक सुंदर पुल भी स्थित है जो आपको अचंभित कर सकता है।
  • अबे झरने के इस पुल को पहले जेसी फ़ॉल्स कहा जाता था जिसका नाम एक ब्रिटिश पदाधिकारी के नाम पर रखा गया था। यह मनोरम स्थान आपको यहाँ आने पर मजबूर कर सकता है। यहाँ का वातावरण आपको सभी चिंताओं से मुक्त कर सकता है।

2. कुर्ग का मशहूर तालाकावेरी स्थल - Famous Talacauvery in Coorg in Hindi :

  • कुर्ग का यह मशहूर तालाकावेरी स्थल मदिकेरी से 44 कि.मी. दूर स्थित कर्नाटक में स्थित है। यह प्रमुख स्थान ब्रह्मगिरी पर्वत पर भागमंदला के पास 1276 मी. की ऊँचाई पर स्थित है। माना जाता है कि यहाँ कावेरी माँ ऋषि अगस्त्य द्वारा अवतरित हुई थीं।जिस कारण यहाँ एक तालाकावेरी कुण्डिका भी स्थित है जहाँ पर्यटक आकर स्नान भी करते हैं। साथ ही यहाँ कुछ मंदिर भी स्थित हैं जहाँ लोग श्रद्धा से सिर झुका कर इस अद्भुत स्थान का आनंद उठाते हैं। यहाँ का प्रसिद्ध शिव मंदिर जहाँ माना जाता है प्राचीन शिवलिंग अवतरित हुआ था साथ ही भगवान विनायक और अगस्त्येश्वर को समर्पित हैं।  
  • तुला संक्रांति जो कहा जाता है अक्टूबर में आती उस दिन इस स्थान पर विशेष रौनक होती है। यदि आप भी श्रद्धा और प्रकृति प्रेमी हैं तो यह स्थान आपके लिए बिलकुल उपयुक्त है।

3. कुर्ग का गोल्डन टेम्पल या नाम्ड्रोलिंग मठ - Famous Golden Temple (Namdroling Monastery) of Coorg in Hindi :

  • कुर्ग का गोल्डन टेम्पल कहलाने वाला यह खुबसूरत स्थान कुशालनगर से 4.5 कि.मी. और मदिकेरी से 34 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। इस मठ की स्थापना 1969 में बाइलाकुप्पा के लुगसुम समदुप्लिंग और डिकी लार्सो द्वारा की गई थी।
  • इस भव्य मंदिर के विशाल परिसर में भगवान पद्मसंभव, शाक्यमुनि और अमितामय की 40 फुट ऊँची भव्य सोने की मूर्तियाँ विराजमान हैं। मठ की दीवारों को रंग-बिरंगी कलाकृति और भित्ति चित्रों से सजाया गया है। साथ ही मंदिर के प्रवेश द्वार पर सोने की कलाकृति से नक्काशी की गई है। साथ ही मंदिर की दीवारों पर तिब्बती और राक्षसों की दंतकथाओं की कहानियों से संबंधित चित्र अंकित हैं। यह भव्य और अद्भुत मठ तिब्बतियन शिक्षा का सबसे बड़ा केंद्र भी माना जाता है। आप जब भी कुर्ग आए इस खुबसूरत स्थल को देखना न भूलें।   

4. कुर्ग का मशहूर पार्क राजा की सीट - Famous Place of Coorg Raja’s Seat in Hindi : 

  • ‘राजा की सीट’ या राजा का तख्त कहलाने वाला कुर्ग का यह प्रमुख स्थान मदिकेरी में स्थित है। इस स्थान का नाम राजा की सीट इसलिए है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि कुर्ग के राजा इस स्थान का प्रयोग अपने बाग-विहार का आनंद, और मनोरंजन के लिए करते थे।
  • यह स्थान एक खुबसूरत बाग है जहाँ आपको कई सुंदर चित्र और दृश्य देखने को मिल सकते हैं जो आपको अचंभित कर सकते हैं साथ ही यह स्थान आपके फोटो शूट के लिए भी बहुत उपयुक्त स्थान है। पूरे पार्क में एक एक टॉय ट्रेन भी चलती है, जिससे आप यहाँ के मनोरम दृश्यों का आनंद उठाने में और सक्षम हो पाते हो।साथ ही इस टॉय ट्रेन में आप अपने मानपसंद स्नैक्स का भी मजा उठा सकते हैं। इस पार्क में जाने की एंट्री फीस मात्र 5 रूपये है। इस स्थान पर परिवार के साथ या अकेले आने भी आपको नये अनुभव से भर देगा। तो जब भी कुर्ग आए इस स्थान को बिलकुल न भूलें।  

5. कुर्ग में रिवर राफ्टिंग का प्रमुख स्थान बारापोला नदी - Adventure Sports, River Rafting in Barapole River Coorg in Hindi :

  • हममें से कई लोग एडवेंचर्स के शौकीन होते हैं और ऐसे साहसी खेलों को करने का आनंद उठाने के लिए अपने परिवार या दोस्तों के साथ छुट्टियों का आनंद लेने निकलते हैं। यदि आप भी अपनी ऐसी ही छुट्टियों का प्लान बना रहे हैं तो कुर्ग की बारापोला नदी आपका इंतजार कर रही है।
  • यह नदी किथु ककाथू से निकलती है और ब्रह्मगिरी पहाड़ियों से निकलते हुए अरब सागर में मिलती है। इस स्थान राफ्टिंग के लिए इतना मशहूर हिया कि पर्यटक दूर-दूर से केवल इस एडवेंचर का आनंद उठाने यहाँ आते हैं। यहाँ आप राफ्टिंग के बड़े-बड़े से रैपिड का आनंद उठा सकते हैं।  

6. कुर्ग की तडियनड़ामोल पहाड़ी - Famous Coorg Tadiandamol Peak in Hindi :

  • कुर्ग की सबसे ऊँची चोटियों में से एक तडियनड़ामोल पहाड़ी 5735 फीट ऊँची है। जहाँ आप सुंदर पहाड़ियों और अद्भुत घाटियों के मनोरम दृश्यों को अपने कैमरे में कैद कर सकते हैं। साथ यदि आप प्रकृति प्रेमी हैं तो यह स्थान आपके लिए सबसे ज्यादा उपयुक्त है।
  • यहाँ का वातावरण और अद्भुत हरियाली, जीव-जंतु, यहाँ के नजारे आपके भीतरी मन को भी इतना उत्साहित कर सकते हैं कि आप एक नई दुनिया का अनुभव करते हैं। साथ ही इसके पास ही एक 200 साल पुराना ट्रेल्स का नलकनद पैलेस भी स्थित है। इसकी प्राचीनता के चलते इस इमारत को देखना भी अनोखा अनुभव है। इसके आलावा आप यहाँ ट्रेकिंग, केम्पेनिंग, आदि भी कर सकते है।

7. कुर्ग का प्रमुख सुंदर इरुप्पू झरना - Coorg ka Famous Iruppu Falls in Hindi : 

  • कुर्ग का इरुप्पू झरना केरल की सीमा पर वायनाड के पास स्थित है। यह झरना अपनी सुन्दरता के कारण कुर्ग के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में से एक है। जहाँ पर्यटकों का जमावड़ा लगा ही रहता है। इस झरने को लक्ष्मण प्रताप झरना भी कहा जाता है।
  • माना जाता है कि इसका नाम कावेरी नदी की सहायक नदी कही जाने वाली लक्ष्मण नदी से यह झरना तेजप्रवाह के साथ पहाड़ियों से नीचे गिरता है। इसके आस-पास की वनस्पति और वातावरण आपके मान को लुभाने के लिए काफी है।
  • साथ ही इस झरने के पास एक मंदिर भी स्थित है। इसलिए यहाँ न केवा प्रकृति प्रेमी बल्कि श्रद्धालु भी आना पसंद करते हैं। इसलिए आप जब भी कुर्ग आए यहाँ आना न भूले।

 8. कुर्ग की मशहूर होंनामाना केरे झील - Famous Honnamana Kere Lake of Coorg in Hindi :

  • कुर्ग की सबसे मशहूर और सबसे बड़ी प्राकृतिक झील होंनामाना केरे झील है। जो कुर्ग में सोमवारमेट गाँव से 7 या 8 कि.मी. दूर है। यह झील और यहाँ का वातावरण आपके मन में एक शांत भाव देता है। आपको आपकी भागदौड़ भरी ज़िंदगी से अलग एक शांत स्थान देता है।
  • कहा जाता इस झील का नाम देवी हनामाना के नाम पर रखा गया था, जिन्होंने यहाँ के लोगों के जीवन के लिए अपना त्याग किया था। इस झील के पास ही एक देवी मंदिर भी है जहाँ गौरी उत्सव के दिन बड़ी रौनक दिखाई देती है।
  • साथ ही झील के पास कॉफ़ी और मसलों के बाग़ भी हैं। यहाँ आस-पास सुंदर पहाड़ियों के बीच इस झील के मनीराम दृश्य के कारण आप इस स्थान से अलग लगाव महसूस करते हैं।         

9. कुर्ग का ओंकारेश्वर मंदिर - Coorg ka famous Omkareshwara Temple in Hindi :

  • कुर्ग के मदिकेरी में स्थित ओंकारेश्वर मंदिर यहाँ का प्रमुख दर्शनीय स्थल है। इस खुबसूरत मंदिर का निर्माण 1820 में लिंगराजेन्द्र द्वितीय ने कराया था। इस मंदिर की पवित्रता और यहाँ की वास्तुकला और पर्यटकों को आकर्षित करती है।
  • इस मंदिर के द्वार में घुसते ही आपको एक तांबे की प्लेट मिलेगी जहाँ आपको इस मंदिर का पूरा इतिहास लिखा मिलेगा। इस मंदिर के चार कोने चार बड़े बुर्ज से घिरे हुए हैं जो अद्भुत हैं। साथ ही मंदिर प्रवेश पर एक शिवलिंग स्थापित है।
  • साथ ही इसके अलावा मंदिर की दीवारों पर अद्भुत वास्तुकला की गई जो गॉथिक और इस्लामिक शैली का मिश्रण है। साथ ही इस मंदिर का प्रमुख आकर्षण यह है कि इस मंदिर के ठीक सामने है जो कई तरह की सुंदर मछलियों से भरा हुआ है।   

10. कुर्ग का प्राचीन और प्रमुख मोदिकेरी किला - Famous Madikeri Fort Coorg in Hindi :

  • कुर्ग का प्रमुख मोदिकेरी किला मोदिकेरी में स्थित है। जिसे मुदुराजा का शहर भी कहा जाता है। यह किला कुर्ग शहर की विरासत और संस्कृति का प्रतीक है। इस किला की बनावट और यहाँ का वातावरण पर्यटकों को आकर्षित करता है।
  • 1834 तक इस किले को मर्करा कहा था लेकिन बाद में ब्रिटिश शासन की समाप्ति के बाद मैसूर सरकार ने इसका नाम बदलकर मोदिकेरी किला कर दिया। इसलिए आप जब भी कुर्ग आए इस प्राचीन किले के दर्शन करने ज़रूर आए।

11. कुर्ग का प्रमुख सोमवरपेटी स्थल - Coorg ka Famous Somwarpet in Hindi :

  • कुर्ग का सबसे आकर्षक और सबसे दर्शनीय स्थल कहा जाने वाला सोमवरपेटी कुर्ग जिले में स्थित है। यदि आप भी किसी ऐसी जगह का घूमने का प्लान बना रहे हैं जो आपको एक नया अनुभव और शहर की व्यस्तता से आराम और शांत स्थान प्रस्तुत कराए तो आप कुर्ग के सोमवरपेटी  के बारे में सोच सकते हैं।
  • यह स्थान बहुत ही खुबसूरत है, शांत वातावरण, सुंदर साफ जलवायु, पशु-पक्षी, पेड़-पौधे आपको बेहद आकर्षित कर सकते हैं। साथ ही इस स्थान से 6 कि.मी. दूर डोड्डामाल्ठे एक गाँव है। जहाँ आपको अलग-अलग मसालों की फसलें और कॉफ़ी के बाग देखने को मिल सकते हैं।    

12. कुर्ग के खूबसुरत झरनों में से एक नीलकंडी झरना - Famous And Beautiful Nilakandi Falls, Coorg in Hindi :

  • कुर्ग के कक्काबा से 7 कि.मी. और मोदिकेरी से 48 कि.मी. दूर कबडिंकडु गाँव में नीलकंडी झरना स्थित है। यह झरना हनी वैली के नाम से भी जाना जाता है। साथ ही यह इतना सुंदर और आअक्र्श्क है कि हर वर्ष यात्री इस झरने को देखने यहाँ ज़रूर आते हैं।
  • कुर्ग शहर के उष्णकटिबंधीय घने जंगलों के बीच यह झरना लगभग 50 फीट की ऊँचाई से निचे गिरता है। झरने के आस-पास की हरियाली और यहाँ का माहौल आपके मन-मस्तिष्क को काबू करने के लिए काफी है। इस झरने के पास ही हनी वैली नाम एक रिजोर्ट भी है। 
  • इस रिजोर्ट में आप कई टार्ग की फसलें जैसे-काली मिर्च, इलायची, कॉफ़ी, चाय आदि को देख सकते हैं। साथ ही यहाँ रुकने की व्यवस्था भी आपको मिल जाती है।  

13. कुर्ग का प्रसिद्ध वन्यजीव अभ्यारण्य - Best Place To Visit in Coorg Pushpagiri Wildlife Sanctuary in Hindi :

  • कुर्ग का यह प्रसिद्ध वन्यजीव अभ्यारण्य विश्व् के बड़े पक्षी स्थलों में से एक है। यह अभ्यारण्य 21 प्रसिद्ध अभ्यारण्यों में से एक है जहाँ दुर्लभ और लुप्त होती प्रजातियों को संरक्षित रखा गया है। in प्रजातियों की संख्या लगभग 21 है।
  • इस अभ्यारण्य का लगभग 70 हिस्सा घने जंगलों से ढका हुआ। उष्णकटिबंधीय जंगलों से घिरे होने के कारण आप-पास कई पहाड़ियाँ और घाटियाँ भी हैं। जिनमें निलिगिरी पहाड़ की चोटी सबसे ऊँची है। इस अभ्यारण्य के पास कई सुंदर झरने भी मौजूद हैं। 
  • इसके अलावा यह झरना 102 वर्ग कि.मी. में फैला हुआ है जिसकी ऊँचाई 160 से लगभग 1712 फीट तक है। इस वन्य अभ्यारण्य की सैर करना आप सभी के लिए एक नया अनुभव हो सकता है।  

14. कूर्ग का मुख्य तीर्थ स्थल भगामंडला - Coorg ka Famous Bhgaamandal in Hindi :

  • भगामंडल कुर्ग प्रमुख दर्शनीय स्थल है जो मोदिकेरी से 38 कि.मी. दूर तलकावेरी की तलहटी में स्थित है। जिसे कावेरी नदी का प्रारम्भ भी कहा जाता है। साथ ही यह स्थान एक त्रिवेणी के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यहाँ तीन नदियों का समागम एक साथ होता है।
  • कावेरी नदी, कनिका नदी और सुज्योती नदी के मेल के कारण यह स्थान ज्याद प्रमुख है। इस भगामंडल त्रिवेणी से एक कथा भी जुड़ी हुई है कि कावेरी, कावेरा ऋषि को भगवान ब्रह्मा ने आशीर्वाद के रूप में दिया था और उन्हें वरदान था कि जब वे चाहे पृथ्वी के उद्धार के लिए नदी का रूप धारण कर सकती हैं।
  • इस जगह की पवित्रता और सुन्दरता के कारण ही यह पर्यटकों के बीच इस कदर मशहूर है कि लोगों का बड़ी मात्रा में यहाँ आना एक आम सी बात है। यदि आप भी इस त्रिवेणी लो देखना चाहते हैं तो कुर्ग के भगामंडल ज़रूर पधारे।

15. कूर्ग में एडवेंचर के लिए बेस्ट जगह ब्रह्मगिरी ट्रेक - Best Places Brahmgiri Coorg in Hindi :  

  • कुर्ग का स्वर्ग कहलाना वाला यह स्थान, ब्रह्मगिरी वायनेडा में स्थित है। यह पहाड़ियाँ इतनी सुंदर और आअक्र्श्क हैं कि यहाँ आप ऐसे नजारों और दृश्यों को देखने का आनंद उठायेंगे जो अपने पहले कभी नहीं देखे होंगे। 
  • ब्रह्मगिरी की पहाड़ियाँ तलहटी से लगभग 5276 फीट ऊँचाई पर स्थित हैं। जहाँ का नजारा अआप सोच भी नहीं सकते की कैसा देखने लायक होता होगा। चारों और घने जंगल के कारण आप यहाँ काम्पेंनिगऔर ट्रेकिंग का आनंद भी उठा सकते हैं। 
  • शहरी जीवन के प्रदूषण से दूर यहाँ की स्वच्छ और निर्मल जलवायु आपका मन मोह लेती है। साथ ही यहाँ पास ही में एक भगवान् विष्णु का मंदिर भी मौजूद है, जिसे थिरुमेली मंदिर भी कहा जाता है। यदि आप कभी कुर्ग जाने का सोच रहे हैं तो इस पहाड़ियों में दर्शन करना न भूलें। 

16. कूर्ग का पर्यटन स्थल मल्लाल्ली फाल्स - Coorg ka Famous Mallalli Fall in Hindi :

  • सफेद दुधिया रंग लिए मल्लाल्ली झरना कुर्ग के सोमवरपेटी से 26 कि.मी. की दूरी पर स्थित है| यह झरना कुमारधारा नदी से निकलता है जो लगभग 1000 फीट ऊँचे उफान से बहती है। सुंदर पुष्पगिरी पहाड़ियों से घिरे होने के कारण यह स्थान बहुत ही रमणीय प्रतीत होता है।
  • यहाँ का सुंदर और अद्भुत नजारा आपको आवाक कर सकता है। साथ ही अबे फॉल भी इस झरने से काफी नजदीक है। यदि आप एक साथ घाटियों, पहाड़ियों, हरियाली, झरने और सुंदरता का आनंद उठाना चाहते हैं तो एक बार इस स्थान पर ज़रूर आना चाहिए।  

17. कुर्ग घूमने का सबसे सही समय - Best Time to visit Coorg in Hindi :

  • वैसे तो आप जब चाहे कुर्ग घूमने जा सकते हैं लेकिन नवम्बर से अप्रैल तक समय यहाँ घूमने का सबसे सही समय है। आप  जब चाहे यहाँ के पहाड़, घाटियों और झरनों का आनंद भरपूर उठा सकते हैं। 

कुर्ग के मशहूर बाजार और प्रमुख खरीदारी की चीज़ें - Best Shopping Market of Coorg in Hindi :

  • यदि आप खरीदारी का शौक रखते हैं यह शहर आपको यहाँ भी ऐसे अनेक चीजें प्रदान करता है, जिन्हें खरीदकर आप यहाँ की अद्भुत यादें अपने साथ संजो कर ले जा सकते हैं। कुर्ग अपने बेहतरीन मसलों, विभिन्न प्रकार की कॉफी, एंटिक चीजों, जूलरी, आम, चाय, चॉकलेट आदि मशहूर हैं जो आपको नया अनुभव प्रदान करते हैं।  
  • कुर्ग का शुक्र बाजार- विभिन्नप प्रकार के मसलों के लिए
  • कुशल नगर मार्किट- मसालों और यादगार चीजों के लिए
  • फ़्ली मार्किट- मसालों, एंटिक चीजों और स्टोंस, आम और जूलरी के लिए
  • कॉफी स्टोर- विभिन्न प्रकार की कॉफी के लिए
  • कुर्ग जूलरी शॉप- कुर्ग की स्पेशल जूलरी के लिए
  • अवेनुए स्टोर- कई तरह की ट्रेवलिंग चीजों के लिए
  • हर्ष कॉम्प्लेक्स- कई प्रकार की चॉकलेट के लिए 

कुर्ग का फेमस खाना - Best Local Food in Hindi :

  • घूमने के शौकीन लोग अक्सर खाने के भी उतने ही शौकीन होते हैं, अगर आप भी ऐसे ही कुछ लोगों में से हैं तो कुर्ग का बेहतरीन खाना आपके मुँह में पानी लाने के लिए काफी है। यूँ तो आपको वैसे किसी भी तरह का व्यंजन उपलब्ध होंगे
  • साथ ही यहाँ का साऊथ इंडियन खाना डोसा, इटली, सरम, वडा, आदि लेकिन इसके आलावा आपको यहाँ के स्पेशल चीज़ों को भी चखना चाहिए जैसे- कदमबुत्ता (चावल के लड्डू), बांस शूट कड़ी, पंडी कड़ी, नोल्पुत्ता, कुलेपुत्ता आदि। कुर्ग के सुहावने मौसम में यहाँ का नया खाना आप में नई ऊर्जा भर देगा। 

कुर्ग कैसे पहुँचे - How To Reach Coorg in Hindi :

आप कुर्ग सड़क, प्लेन और ट्रेन के रास्ते आराम से पहुँच सकते हैं-

प्लेन के रास्ते कुर्ग कैसे पहुँचे - How To Reach Coorg By Flight in Hindi :

कुर्ग के लिए सबसे नजदीक हवाई अड्डा मैसूर और मैंगलोर है। मैसूर का हवाई अड्डा 121 कि.मी. और मैंगलोर का हवाई अड्डा 168 कि.मी. दूर है कुर्ग से, जहाँ से आप कोई भी कैब या टैक्सी के द्वारा कुर्ग पहुँच सकते हैं।

ट्रेन के रास्ते कुर्ग कैसे पहुँचे - How To Reach Coorg By Train in Hindi :

कुर्ग जाने के लिए सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन मैसूर और मैंगलोर का है। इसके आलावा केरल का थालास्सेरी और कन्नूर भी यहाँ से काफी नजदीक पड़ता है। जहाँ से आप आसानी से कुर्ग पहुँच सकते हैं। 

सड़क के रास्ते कुर्ग कैसे पहुँचे - How To Reach Coorg By Road in Hindi :

कुर्ग के लिए काफी बसे सीधे सड़क मार्ग के रास्ते यहाँ से जुड़ी हुई हैं। और यहाँ की लगातार बस सेवा के कारण आप आसानी से यहाँ पहुँच सकते हैं। मैंगलोर, मैसूर, हसन, थालास्सेरी और कन्नूर आदि शहरों से पर्याप्त मात्रा में बसें सेवाएँ चलती हैं।

Nature