लेह लद्दाख में घूमने लायक प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों की जानकारी - Best Tourist Places To Visit in Leh Ladakh in Hindi

मेरे प्रिय पाठक आपका प्रेम पूर्वक नमस्कार, इस लेख में हम लेह लद्दाख यात्रा की संपूर्ण जानकारी देंगे अतः आपसे अनुरोध है कि हमारे इस लेख को पूरा अंत तक पढ़ें |

लेह लद्दाख में घूमने लायक प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों की जानकारी -  Best Tourist Places To Visit in Leh Ladakh in Hindi
Nature

लेह लद्दाख में घूमने की जगह - Leh Laddak Tourist Places in Hindi :

  • लेह लद्दाख भारत के सबसे खूबसूरत केंद्र शासित प्रदेशों में से एक है। 
  • यह जम्मू और कश्मीर का एक बेहद महत्वपूर्ण प्रदेश है। यह प्रदेश काराकोम रेंज से सियाचिन ग्लेशियर तक फैला हुआ है। 
  • दक्षिण में यह हिमालय तक विस्तृत है। 
  • बहुत से लोगों को यह भ्रम होता है कि लेह लद्दाख एक ही है। लेकिन हम आपको यहां बता देना चाहते हैं कि लेह लद्दाख एक नहीं है। जम्मू कश्मीर की यदि एक संपूर्ण भौगोलिक जानकारी आप जानेंगे तो पाएंगे कि जम्मू-कश्मीर तीन भागों में बटा हुआ है- जम्मू, कश्मीर और लद्दाख। 
  • लद्दाख खुद दो भागों में विभाजित है- पहला लेह जिला और दूसरा कारगिल ज़िला। 
  • लेह लद्दाख अपने कठिन रास्ते बर्फबारी और अनेक पहाड़ी साहसिक गतिविधियों के लिए जाना जाता है। 
  • देशभर से पर्यटक स्थल की खूबसूरती को करीब से महसूस करने आते हैं। यहां की ठंडक में एक प्रकार की ताजगी पर्यटक सहज ही महसूस कर पाएंगे।
  • तो आइए दोस्तों ले चलते हैं आपको लेह लद्दाख के उस बर्फीली घाटियों में जो विश्व भर में बेहद प्रसिद्ध है।

लेह लद्दाख की प्रसिद्ध जांस्कर घाटी - The famous  Zanskar Valley of Leh Laddakh in Hindi :

  • लेह लद्दाख की यह प्रसिद्ध घाटी हिमालयन रेंज में स्थित है।
  • यह घाटी चारों ओर से पहाड़ियों और बर्फ से ढकी हुई है। यहां पर आकर पर्यटकों को एक अलग ही सुकून की अनुभूति मिलती है। 
  • यहां पर घूमने का सबसे अधिक सबसे उत्तम समय है जून से सितंबर इस समय मौसम में बर्फ बहुत साफ होती है।

■ लेह लद्दाख की खूबसूरत  पैंगोंग झील - Beautiful lake of Leh Ladakh Pangong Lake in Hindi :

  • पैंगोंग झील, लेह लद्दाख के पास एक बेहद सुंदर झील है।
  • यह झील 12 किलोमीटर लंबी है। 
  • इस झील का विस्तार भारत से तिब्बत तक का है। 
  • इस झील की ऊंचाई 43000 मीटर है। पैंगोंग झील के पास का तापमान 5 डिग्री सेल्सियस से 10 डिग्री सेल्सियस तक रहता है। 
  • इस झील का नजारा बेहद सुहावना है। यह झील कई फिल्म शूटिंग का हॉटस्पॉट रह चुकी है। 
  • इस झील को क्रिस्टल झील के नाम से भी जाना जाता है। यह झील कोमल पहाड़ियों से होकर बहती है। 
  • इस झील का नजारा बेहद खूबसूरत है। सर्दियों के समय यह झील जम जाती है और पर्यटक इस झील में एक अद्भुत नजारे को देखकर अत्यंत सुंदर अनुभूति का एहसास करते हैं।

■ लेह लद्दाख की रोचक जगह  मैग्नेटिक हिल - The Very interesting Tourist Spot of Leh Ladakh Magnetic Hill :

  • मैग्नेटिक हिल को ग्रेविटी हिल के नाम से भी जाना जाता है। 
  • इसको ग्रेविटी हिल इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहां पर गुरुत्वाकर्षण का प्रभाव बहुत स्पष्ट रूप से नजर आता है।
  • यह एक पहाड़ी है जहां पर वाहन अपने आप पहाड़ी की तरफ मुड़ जाता है। वैज्ञानिकों ने इसी कारण इस हिल को मैग्नेटिक हिल अथवा ग्रेविटी हिल के नाम से पुकारा है। 
  • यह समुद्री स्तर से 14000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। मैग्नेटिक हिल लेह से 30 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद है।
  • इस हिल के पूर्व में सिंधु नदी बहती है। यह पहाड़ी एक तरह का ऑप्टिकल भ्रम पैदा करती है।
  • दुनिया की सबसे रहस्यमई चीजों में मैग्नेटिक हिल का भी नाम दर्ज है।
  • अतः आप आएं और इस पहाड़ी के वैज्ञानिकता का एक अद्भुत उदाहरण को अपनी आंखों से स्पष्ट देखें। 
  • पहाड़ी पर से लेह लद्दाख का एक बेहद सुंदर नजारा दिखाई देता है।

■ लेह लद्दाख की अद्भुत संरचना लेह पैलेस - The Very Beautiful Structure of Leh Ladakh Leh Palace in Hindi :

  • लेह पैलेस ‘Lhachen Palkhar’ के नाम से भी जाना जाता है। 
  • यह एक ऐतिहासिक पर्यटक स्थल है। इस भव्य इमारत का निर्माण 17 वी सदी में हुआ था। 
  • यह महल राजा सिंगिंग नामग्याल द्वारा बनवाया गया था ।
  • इस महल में शाही राज परिवार रहा करता था यह हवेली लेह के कई शासनकालों का जीता जागता प्रमाण है।
  • यह एक 9 मंजिला इमारत है। इस महल से पर्यटक लेह लद्दाख का एक अद्भुत सुंदर मनोरम दृश्य देख सकते हैं। 
  • यह महल लेह लद्दाख की सबसे ऊंची इमारतों में से एक है।
  • इसकी भव्य शिल्प कला प्राचीन कश्मीरी कला का एक अद्भुत उदाहरण है। 
  • इसकी ऊंची ऊंची इमारतें, यहां का शाही माहौल और भव्य नजारा पर्यटकों को सहज ही आकर्षित करता है

लेह लद्दाख का महत्वपूर्ण स्थल चादर ट्रेक - The Important site of Leh Ladakh Chadar Trek in Hindi :

  • चादर ट्रेक,  यह पर्यटक स्थल लेह लद्दाख के सबसे महत्वपूर्ण और रोचक ट्रैक स्थलों में से एक है। 
  • यहां पर पहुंचने का पहाड़ी मार्ग बेहद कठिन और रोमांचक साबित हुआ है।
  • चादर ट्रेक फ्रोजन रिवर ट्रैक के नाम से भी प्रसिद्ध है। ऐसा इसलिए क्योंकि सर्दियों में यहां पर जांसकर नदी जम जाती है। और बर्फ की एक सफेद चादर के रूप में तब्दील हो जाती है और उसके ऊपर कई अनेक ट्रैक एक्टिविटीज आयोजित करवाई जाती हैं। 
  • तो पर्यटक यदि लेह लद्दाख घूमने का विचार बना रहे हैं तो वे ऐसे समय में आए जिस समय जांसकर नदी एक बर्फ की चादर में तब्दील हो चुकी हो और आप जब यहां आएं तो चादर के फ्रोजन रिवर ट्रैक का मजा उठा पाए।

लेह लद्दाख का आध्यात्मिक स्थल फुगताल मठ - The Famous Spiritual Spot of Leh Ladakh For Fugtaal Monastry in Hindi :

  • फुगताल मठ को फुकताल मठ भी कहा जा सकता है।
  • यह जांसकर नदी क्षेत्र के दक्षिण और पूर्वी भाग में स्थित है। यह कई उपदेशक और विद्वानों की जगह रही है यहां पर हमेशा से प्राचीन काल से दर्शन, शिक्षा और उपदेशों का एक अद्भुत माहौल बना हुआ है। 
  • झुकरी बोली में यदि देखें तो 'फुक' का अर्थ होता है गुफा और 'ताल' का अर्थ होता है आराम। तो यह एक ऐसी गुफा थी जहां पर आकर लेह लद्दाख के अनेक विद्वान विश्राम किया करते थे, विचार विमर्श करते थे। 
  • दर्शनशास्त्र पर  कई  बहसें भी यहां पर हुआ करती है।
  • यह 22500 साल पुराना प्राचीन मठ है।  यह अब ट्रेकिंग का एक मुख्य स्थल बन चुका है।
  • पर्यटक यहां पर पैदल यात्रा करने आते हैं और साथ ही ट्रैकिंग भी करते हैं। 
  • इसके साथ ही यहां पर मौजूद है एक मंदिर जिसमें लेह लद्दाख के प्राचीन त्योहार मनाए जाते हैं। 
  • तो पर्यटक यदि यहां की संस्कृति से वाकिफ होना चाहते हैं और यहां की परंपराओं में घुलना चाहते हैं तो वे इस मठ में जरूर आएं।

लेह लद्दाख में स्थित गुरुद्वारा पथर साहिब - Gurudwara Pathar sahib, situated in Leh laddakh in Hindi :

  • लेह लद्दाख का प्रसिद्ध गुरुद्वारा पत्थर साहिब लेह से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।
  • इस गुरुद्वारे का निर्माण 1517 में गुरु नानक देव गुरु नानक जी की याद में बनवाया गया था। 
  • इसका निर्माण एकचल चट्टान पर हुआ है। इस गुरुद्वारे के आसपास ट्रैकिंग जैसी स्पोर्ट्स गतिविधियों की भी सुविधा मौजूद है।
  • इस गुरुद्वारे तक पहुंचने का मार्ग बेहद जटिल और कठिन है। पर्यटक यहां पर आकर धार्मिक माहौल की अनुभूति करते हैं। 
  • माना जाता है कि लेह लद्दाख में यहां इस गुरुद्वारे के दर्शन बेहद शुभ होते हैं। तो आप आए और इन इन शुभ स्थल का दर्शन जरूर करें

■  बौद्ध दर्शन का प्रसिद्ध शांति स्तूप - The Famous Shanti Stupa of Buddhism in Hindi :

  • शांति स्तूप लेह लद्दाख का एक बेहद प्रसिद्ध बौद्ध स्तूप है। यह बौद्ध स्तूप सफेद गुंबद वाला स्तूप है।
  • यह भिक्षुक ग्योम्यो नाकामुरा द्वारा बनवाया गया था। 14वे दलाई लामा ने खुद को इस शांति स्तूप में ही विस्थापित किया था।
  • यह शांति स्तूप बौद्ध दर्शन की अनेक बहस और वाद-विवादों का स्थल रहा है। 
  • यहां पर बुद्ध के अवशेष मिलते हैं। 
  • यह स्तूप 4267 मीटर ऊंचा है। यह शांति स्तूप सड़क मार्ग से 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।
  • यदि देखा जाए तो यह स्तूप लेह 500 सीढ़ी ऊपर चढ़कर पाया जाता है।
  • इस स्तूप पर पहुंचकर पर्यटकों को एक सुंदर नजारा देखने को मिल सकता है। 
  • इस स्तूप का ढांचा पारंपरिक बौद्ध वस्तु कला से प्रेरित है इससे इसकी प्राचीनता का अनुमान सहज ही लगाया जा सकता है। पर्यटक यहां पर आकर एक आध्यात्मिक वातावरण को महसूस कर पाते हैं।

लेह लद्दाख का प्रसिद्ध खारदुंग ला पास - Khardung la Pass of Leh Laddakh in Hindi :

  • लेह लद्दाख का यह पास नुब्रा और श्योक घाटी का प्रवेश द्वार है।
  • इससे खड़जोंग ला पास भी कहा जाता है।
  •  यह सियाचिन ग्लेशियर का एक महत्वपूर्ण और प्रमुख पास है। इसकी ऊंचाई लगभग 5602 मीटर है। 
  • यह अपने आप में एक अनोखा मोटर सक्षम पास है।
  •  यहां का प्राकृतिक वातावरण अत्यंत मनोरम है और यहां के शुद्ध ताजी हवा पर्यटकों को अपनी ओर खींच लेती है।

■  लेह लद्दाख का आध्यात्मिक हेमिस मठ - The famous spiritual monastery of Leh Ladakh 

Hemis Monastery :

  • यह एक तिब्बती मठ है जिसका निर्माण 11वीं शती में हुआ था।
  • जर्जर अवस्था में होने के कारण 1672 में इसको फिर से विस्थापित किया गया। 
  • माना जाता है कि यह तिब्बती मठ एक बेहद धनी और विशाल मठ हुआ करता था। यह मठ लेह से चार-पांच किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 
  • यह मठ हर 12 साल में खोला जाता है। कई तिब्बती उत्सवों का यह मठ साक्षी रह चुका है।
  • इस मठ में हर साल भगवान पद्म संभव का सम्मान आयोजित किया जाता है। 
  • हेमिस मठ के पास ही स्थित है हेमिस नेशनल पार्क।
  • इस नेशनल पार्क में अनेक लुप्तप्राय प्रजातियां पाई जाती है।
  • उन लुप्तप्राय प्रजातियों में से एक प्रजाति जो विश्व भर में बहुत कम जगह पाई जाती है वह है-  शो तेंदुआ जिसको हेमिस नेशनल पार्क में आश्रय मिला हुआ है।
  • तो पर्यटक हेमिस मठ की आध्यात्मिकता और प्राकृतिक सौंदर्य का एक अद्भुत समन्वय देख सकते हैं।

■  लेह लद्दाख में खरीदारी - Shopping in Leh Ladakh in Hindi :

  • लेह लद्दाख का सबसे प्रमुख खरीदारी का स्थल है लेह मार्केट जो शहर के बीचोंबीच स्थित एक बेहद रोमांचक, मनोरंजक और रंगीन स्थल है।
  • इस मार्केट में अनेक छोटे छोटे तिब्बती बाजार मौजूद हैं। यहां पर आकर पर्यटक करीबी से लेह और लद्दाख की संस्कृति को महसूस कर सकते हैं। 
  • यहां पर पशमीना शॉल, चांदी से बनी चीजें, लकड़ी से बनी चीजें, ऊनी कढ़ाई के कपड़े बेहद प्रसिद्ध हैं।
  • इसके अलावा यहां पर पाए जाते हैं सेब, अखरोट इत्यादि। तो दोस्तों यदि आप लेह लद्दाख में यात्रा करने आएं तो यहां की लेह मार्किट जाना न भूलें।

■ लेह लद्दाख की रोचक गतिविधि- राफ्टिंग - interesting sports activity of Leh Ladakh-Rafting

  • दोस्तों यदि हम किसी भी पहाड़ी इलाके में घूमने जाते हैं तो वहां की स्पोर्ट्स साहसिक गतिविधियों के बारे में सर्वप्रथम सोचते हैं। 
  • लेह लद्दाख में बहुत सी पहाड़ियाँ और नदियां साहसिक गतिविधियों का केंद्र है। 
  • उनमें से प्रमुख गतिविधि है राफ्टिंग। लेह में राफ्टिंग जांसकर नदी में की जाती है। लेह लद्दाख में जांसकर नदी राफ्टिंग का एक प्रमुख स्थल है। 
  • जांसकर नदी को भारत का ग्रैंड कैनियन भी कहा जाता है।
  • पर्यटक यदि यहां आए तो अपनी गाइड की सलाह से राफ्टिंग के दौरान केवल जरूरत का सामान लेकर जाएं और गाइड के मार्ग निर्देशन के अनुसार वहां पर राफ्टिंग का भरपूर मजा लें।

लेह लद्दाख की साहित्यिक गतिविधियों में क्लिफ जंपिंग - interesting sports activity of Leh Ladakh Cliff jumping :

  • पर्यटक क्लिफ जंपिंग का मजा राफ्टिंग के समय ही उठा सकते हैं। 
  • जांसकर नदी में राफ्टिंग के समय ऐसी कई छोटी-छोटी पहाड़ियां मिलती है जहां पर रुक कर, ठहर कर पर्यटक चाय-मैगी का आनंद उठा सकते हैं। साथ ही वे वहां पर छोटी-छोटी पहाड़ियों पर अपने गाइड के मार्ग निर्देशन के अनुसार क्लिफ जंपिंग भी कर सकते हैं।
  • यह एक बहुत ही रोचक और रोमांचक साहित्यिक गतिविधि है पर्यटक इसका मजा लेना ना भूले।

लेह लद्दाख में माउंटेन बाइकिंग - Mountain biking in Leh Ladakh in Hindi :

  • लेह लद्दाख माउंटेन बाइकिंग के लिए एक स्वर्ण स्पॉट के समान है। यहां पर ऐसी कई छोटी-छोटी पहाड़ियां हैं जिनमें खड़ी ढलान है, तो यदि पर्यटक माउंटेन बाइकिंग के एक्सपर्ट हैं तो वे सभी इंस्ट्रक्शंस का पालन करते हुए माउंटेन बाइकिंग का मजा लें सकते हैं। 
  • पर्यटक यदि विशेषकर माउंटेन बाइकिंग के लिए लेह लद्दाख की यात्रा करते हैं तो वे ध्यान रखें कि माउंटेन बाइकिंग के लिए उत्तम समय मई से सितंबर तक का है। क्योंकि माउंटेन बाइकिंग की सुविधा इसी समय के लिए खोली जाती है।

■ लेह लद्दाख की अद्भुत इमारत स्टॉक पैलेस - Brilliant building of Leh Ladakh Stok Palace in Hindi :

  • यह स्टॉक पैलेस सिंधु नदी के किनारे स्थित है। यहां पर आकर पर्यटक लेह लद्दाख के इतिहास को खंगाल सकते हैं। 
  • 1825 में इस महल का निर्माण राजा त्सेपाल तोंदप नामग्याल ने करवाया था। 
  • यह महल एक भव्य अद्भुत इमारत है जिसके आसपास एक खूबसूरत उद्यान मौजूद है। 
  • भव्य इमारत और खूबसूरत प्राकृतिक सौंदर्य का मेल यहाँ देखने को मिल सकता है। 
  • इस पर्यटक स्थल में मौजूद है एक संग्रहालय जिसमें उस समय के राजपरिवार की पोशाक और उनकी रोजमर्रा की चीजें संजोकर रखी गई हैं। इसके अतिरिक्त यहां पर राजपरिवार का। राजमुकुट भी मिल जाएगा।

एलओसी कारगिल - LOC Kargil in Hindi :

  • नियंत्रण रेखा के पास स्थित कारगिल घाटियों का एक अद्भुत नजारा देता है। 
  • यह नियंत्रण रेखा के पास पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के पश्चिमी घाटी में स्थित है। यहां से पर्यटकों को प्राकृतिक सौंदर्य और एक अद्भुत शांति का माहौल मिल जाएगा।

■  लेह लद्दाख की बेहद सुंदर त्सो झील - The Very Beautiful Tso Lake of Leh Laddakh in Hindi :

  • इसे सफेद झील के नाम से भी जाना जाता है। यह झील एकदम शांत और निर्जन स्थान पर निहित है। 
  • इस झील में कई पक्षियों को आश्रय मिलता है। 
  • यहां पर आकर पर्यटक वास्तव में एक स्वर्ग जैसी अनुभूति कर सकते हैं। इस झील में कई दलदली पक्षी भी आकर आश्रय पाते हैं।

लेह लद्दाख का प्रसिद्ध वन्य जीव अभ्यारण- चांगटांग वाइल्ड लाइफ सेंचुरी - The famous wildlife sanctuary of Leh Ladakh Changtang wildlife sanctuary :

  • लेह लद्दाख में स्थित यह चांगतांग वाइल्ड लाइफ सेंचुरी वनस्पति और जैव विविधता को अपने अंदर समाए हुए हैं। 
  • यह एक सुंदर झील के किनारे स्थित है। इस वाइल्ड लाइफ सेंचुरी में कई पक्षी और लुप्तप्राय प्रजातियों को आश्रय मिला हुआ है। इसके अलावा यहां की वनस्पति की विविधता इसके सौंदर्य को और भी अधिक निखार देती है।

■ पैंगोंग झील की जुड़वा त्सो मोरीरी झील - The Twin of Pangong Lake - Tso Moriri lake in Hindi :

  • त्सो मोरीरी झील चांदटांग वाइल्ड लाइफ सेंचुरी में स्थित है। 
  • यह झील 100 फीट गहरी है। इस झील के आसपास आपको खूबसूरत पहाड़ियां मिल जाएंगी। यह झील एक निर्जन स्थान पर मौजूद है जहां पर बहुत कम पर्यटक आते हैं। तो आप यदि एक शांत और मनोरम जगह पर जाकर थोड़ी शाम गुज़ारना चाहते हैं अथवा कुछ सुहाने पल व्यतीत करना चाहते हैं तो इस झील पर आकर जरूर ठहरे। झील का प्राकृतिक सौंदर्य ह्रदय को पल्लवित कर देगा।

लेह लद्दाख का दर्शनीय स्थल- मूनलैंड - Visiting Spot of Leh Ladakh Moonland in Hindi :

  • लेह की यह सबसे बेहतरीन जगहों में से एक है मूनलैंड। इसका ढांचा इस तरह निर्मित है कि यहां पर चंद्रमा की रोशनी रिफ्लेक्ट होती है पर्यटक यहां पर एक अद्भुत नजारा देख सकते हैं।

लेह लदाख घूमने का सबसे उत्तम समय - Best time to visit in Leh Ladakh in Hindi  :

  • लेह लद्दाख घूमने का सबसे उत्तम समय है जून से सितंबर क्योंकि लेह सुदूरवर्ती एक पहाड़ी इलाके में ठंडा प्रदेश है तो वहां पर यदि आप सर्दी के मौसम में जाएंगे तो बेहद कठिनाई महसूस करेंगे। जून से सितंबर का समय एक अद्भुत सुहावना समय होता है जहां पर आप वहां के प्राकृतिक दृश्य को देख पाते हैं और इस समय वातावरण भी शांत होता है और बर्फ भी बहुत साफ होती है।

लेह लद्दाख सड़क मार्ग से कैसे पहुंचे - How to Reach Leh Ladakh by Road in Hindi :

  • हिमाचल प्रदेश टूरिज्म और जम्मू और कश्मीर स्टेट टूरिज्म की तरफ से डीलक्स और सेमी डीलक्स बस की सुविधा उपलब्ध है जो मनाली से लेह और श्रीनगर से लेह की और बस की सुविधा उपलब्ध कराती है। पर्यटकों को सड़क मार्ग से जाने में डीलक्स बस सुविधा प्रदान कर सकती है।

■  ट्रेन के जरिए लेह लद्दाख  कैसे पहुंचे - How To Reach Leh Ladakh By Train in Hindi :

  • पहाड़ी इलाकों में स्थित होने के कारण लेह लद्दाख का अपना कोई रेलवे स्टेशन नहीं है इसलिए वहां प्रत्यक्ष रूप से सीधे ट्रेन के जरिए नहीं पहुंचा जा सकता। लेकिन उसका सबसे निकटवर्ती रेलवे स्टेशन है जम्मू। जम्मू से लेह 700 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पर्यटक वहां से टैक्सी ले सकते हैं। जम्मू रेलवे स्टेशन मुंबई कोलकाता और दिल्ली से कनेक्टेड है।

फ्लाइट के जरिए लेह लद्दाख कैसे पहुंचे - How To Reach Leh Ladakh By flight in Hindi :

  • फ्लाइट के जरिए लेह पहुंचना एक अत्यंत सुविधा पूर्ण चुनाव है। पर्यटक प्रमुख शहर जैसे कोलकाता मुंबई दिल्ली से फ्लाइट बोर्ड करके लेह एयरपोर्ट पहुंच सकते हैं। लेह हवाई अड्डे पर पहुंचने के बाद लद्दाख जाने के लिए वहां से एक कैब भी कर सकते हैं।
Nature